आशंका थी मां नहीं देख पाएगी बेटे की शादी
कोलकाता में गुरुवार को रूबी जनरल अस्पताल का एक कमरा विवाह स्थल के रूप में तब्दील दिखा। स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयार्क में असिस्टेंट प्रोफेसर 33 वर्षीय भास्कर रॉय बरधान और चंद्रिमा चटर्जी (यूएस में पीएचडी की स्टूडेंट) 15 दिसंबर को शादी करने वाले थे। इधर भास्कर की मां भासवती कैंसर के चलते गंभीर स्थिति में पहुंच गईं। वह एक सप्ताह से अस्पताल में भर्ती हैं। आशंका थी कि मां अपने बेटे की शादी देख भी पाएंगी या नहीं। हालात को देखते हुए भास्कर ने निर्धारित समय से पहले ही शादी कर मां की ख्वाहिश पूरी करने का निर्णय लिया।

12 की उम्र से शादी के दिन तक हर रोज ली एक सेल्फी और बना डाला दुनिया का सबसे अनोखा वीडियो

स्काइप जरिए निभाई शादी की रस्में
चूंकि होने वाली दुल्हन फिलहाल विदेश में थी लिहाजा तय हुआ कि वे अस्पताल में ही स्काइप पर वीडियो क्रांफ्रेंसिंग के जरिए शादी करेंगे। इसके बारे में उनकी मां को कुछ भी नहीं पता था। अस्पताल प्रबंधन ने एक कमरे का इंतजाम किया ताकि अन्य मरीजों को कोई दिक्कत न हो। इसके बाद सरप्राइज के तौर पर भासमती को उस कमरे में शिफ्ट करते हुए उन्हें एक लैपटॉप दिया गया। दूल्हे ने अपनी मां को बताया कि अब वैवाहिक कार्यक्रम शुरू होने वाला है।
बीमार मां की ख्‍वाहिश पूरी करने को बेटे ने लैपटॉप पर भरी दुल्‍हन की मांग,कोलकाता का एक अस्‍पताल बना मंडप

जब 16 साल की लड़की को दिल दे बैठे थे जिन्ना

नहीं बोल पा रही थीं मां
स्काइप के जरिए दूल्हा-दुल्हन ने अपनी रस्में निभाते हुए वचन लिए। भास्कर ने बताया कि मां बहुत कमजोर होने की वजह से कुछ बोल नहीं पा रहीं थीं। यही एक मौका था जिससे मैं उनके चेहरे पर मुस्कान और खुशी के आंसू देख सकता था। यह मेरे और मेरी पत्नी के लिए बड़ा आशीर्वाद भी है। इलाज कर रहे डा. अङ्क्षरदम चौधरी ने बताया, मरीज की हालत गंभीर है और वह अपने बेटे की शादी देखना चाहती थीं। उनकी स्थिति को देखते हुए अस्पताल ने खास इंतजाम किए।
बीमार मां की ख्‍वाहिश पूरी करने को बेटे ने लैपटॉप पर भरी दुल्‍हन की मांग,कोलकाता का एक अस्‍पताल बना मंडप

जयमाल के बाद बदला दुल्हन का मूड! फिर जो किया, तो दूल्‍हा समेत सबके उड़ गए होश

Image credit : Times Of India

National News inextlive from India News Desk