RANCHI : क्रिकेट की पिच पर चौके-छक्के लगाने में नंबर वन महेन्द्र सिंह धोनी झारखंड में सबसे ज्यादा इन्कम टैक्स पे करने वालों में भी पहले पायदान पर हैं. फाइनेंसियल ईयर 2017-18 में उन्होंने 12 करोड़ रुपए बतौर इन्कम टैक्स दिया. झारखंड रांची रीजन के मुख्य आयकर आयुक्त वी. महालिंगम ने बताया कि झारखंड में इंडीविजुअल कैटेगरी में सबसे ज्यादा इन्कम टैक्स महेंद्र सिंह धोनी ने दिया है, जबकि पीएसयू के मामले में सीसीएल ने सर्वाधिक 1500 करोड़ रूपये का टैक्स जमा किया है.

31 तक करें रिटर्न फाईल
मुख्य आयकर आयुक्त वी महालिंगम ने कहा है कि बजट घोषणा में वर्ष 2018 से सरकार ने नई धारा 234 एफ की घोषणा की है. जिसके तहत किसी टैक्स पेयर को निर्धारित तिथि के बाद आयकर दाखिल करने के लिए 10 हजार रूपये तक की पेनाल्टी देनी पड़ेगी. उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरा है वे 31 जुलाई 2018 तक जमा करा दें, वरना 5000 रूपए की पेनाल्टी के साथ टैक्स जमा कराना होगा. उन्होंने बताया कि अगर आप 31 दिसंबर के बाद इनकम टैक्स रिटर्न फाईल करते हैं तो 10 हजार रूपए तक जुर्माना देना होगा. यह पेनाल्टी 5 लाख तक की आय वालों के लिए लागू होगी.

10 लाख करोड़ के पार पहुंचा राजस्व
मुख्य आयकर आयुक्त वी. महालिंगम ने कहा कि आयकर दिवस के अवसर पर रांची राष्ट्र निर्माण में योगदान देने के लिए तैयार है. उन्होंने बताया कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में प्रत्यक्ष कर के रूप में 10 लाख करोड़ रूपये के आंकड़े को पार कर लिया है जो वास्तविक संग्रह 10 लाख 2 हजार 954 करोड़ रूपए था. उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष में 11 लाख 50 हजार करोड़ का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. विभाग ने चालू वित्त वर्ष में सवा करोड़ नए आकलन को जोड़ने का लक्ष्य रखा है. उन्होंने बताया कि जून 2018 तक एडवांस टैक्स कलैक्शन में 98.24 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. साथ ही टैक्स कलैक्शन को बढ़ावा देने के लिए रांची क्षेत्र में 180 सर्वेक्षण किए गए हैं.