- नगर निगम के इंतजाम नहीं कर पाए बारिश का सामना

- शहर में दर्जनों इलाकों में खड़ी हो गई जलभराव की समस्या

Meerut. बुधवार को हुई झमाझम बारिश में पानी के साथ नगर निगम के सारे तामझाम और इंतजाम बह निकले. सुबह से दोपहर तक हुई तेज बारिश ने शहर में जलभराव की विकट समस्या खड़ी कर दी. व्यवस्था का आलम यह रहा कि निगम प्रशासन पानी से खुद अपने कार्यालय तक को नहीं बचा पाया. निगम परिसर में दो-दो फिट पानी खड़ा हो गया.

शहर में जलभराव

शहर में बुधवार को हुई तेज बारिश से शहर के कई इलाके जलमग्न हो गए. मुख्य मार्गो से लेकर, सरकारी दफ्तरों और गली-मोहल्लों में जलभराव का संकट इस कदर था कि लोगों के घरों में पानी भर गया. जलभराव का सबसे बुरा हाल तो शहर के पुराने इलाकों में रहा. जलभराव का आलम यह था कि सड़कों पर दो से तीन फुट पानी खड़ा गया.

निगम के दावों की खुली पोल

दरअसल, बरसात को ध्यान में रखते हुए नगर निगम ने नालों और नालियों की सफाई के अलावा वाटर लॉगिंग प्रभावित क्षेत्रों से पानी की निकासी के पुख्ता इंतजाम करने का दावा किया था. लेकिन बुधवार को ही मूसलाधार बारिश ने निगम के सारे दावों की पोल खोल कर रख दी. शहर में कूड़े और सिल्ट से अटे पड़े नाले उफान लेने लगे.

यहां रही जलभराव की समस्या

खैरनगर, ब्रह्मापुरी, विकासपुरी, प्रहलाद नगर, लिसाड़ी रोड, नूर नगर, श्यामनगर, अहमद नगर, घंटाघर, बागपत रोड, मुल्तान नगर, नई सड़क , रौनक पुरा आदि में जलभराव की समस्या रही.

बरसात से पूर्व ही नालों की सफाई करा ली गई थी. शेष बचे कुछ छोटे नालों की सफाई का कार्य जारी है. पानी की निकासी के लिए सर्वे कराया जाएगा.

-डॉ. आरएस चौहान, नगर स्वास्थ अधिकारी