-शहर में 33 पोर्ट स्टेशन बनाए जाने का काम जल्द होगा शुरू, दुर्गध से मिलेगी शहरियों को निजात

-खुले में सड़ने के बजाय अब डायरेक्ट कॉम्पैक्टर में बंसवार प्लांट भेजा जाएगा कचरा

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो कुंभ मेला से पहले शहरियों को कचरे के ढेर व इससे उठने वाली दुर्गध से छुटकारा मिल जाएगा. इसके लिए नगर निगम इलाहाबाद ने कूड़ा अड्डों को खत्म कर पोर्ट स्टेशन बनाने का निर्णय लिया है. यह स्टेशन पूरी तरह से पैक्ड होंगे. सिर्फ कचरा गाड़ी में लोड करने के लिए ही इसे खोला जाएगा. बाकी के समय में यह बंद ही रहेगा. शहर में कुल 33 पोर्ट स्टेशन बनाए जाएंगे.

खत्म हो जाएंगे कूड़े के अड्डे

स्मार्ट सिटी इलाहाबाद की वर्तमान स्थिति ये है कि मेन रोड के किनारे ही बड़े-बड़े कूड़े अड्डे हैं. यहां आस-पास के कई मोहल्लों का कचरा फेंका जाता है. फेंका गया कचरा सड़ता रहता है. इससे उठने वाली दुर्गध के कारण लोगों को इन कूड़ा अड्डों के पास से नाक पर रुमाल रख गुजरना पड़ता है. कटरा में लक्ष्मी टॉकीज के पास का पुराना कूड़ा अड्डा स्मार्ट कूड़ा अड्डा बनाने के बाद नगर निगम ने अब लीडर रोड कूड़ा अड्डा को पोर्ट स्टेशन बनाने का काम शुरू कर दिया है. लीडर रोड पोर्ट स्टेशन बनने के बाद मंडपम का कूड़ा अड्डा खत्म हो जाएगा. मंडपम का कचरा छोटी गाडि़यों से लीडर रोड पोर्ट स्टेशन पर मंगाया जाएगा, जो काम्पैक्टर के अंदर चला जाएगा. यहां पांच काम्पैक्टर लगाए जाएंगे. एक-एक काम्पैक्टर जाता रहेगा और कचरा खाली करके आता रहेगा. लीडर रोड के साथ ही हैजा हॉस्पीटल में भी पोर्ट स्टेशन बनाया जाएगा. इसके बाद शंकरढाल कूड़ा अड्डा का नंबर आएगा. इस तरह कुल 33 पोर्ट स्टेशन बनाए जाएंगे. पोर्ट स्टेशनों का निर्माण पूरा होने के बाद शहर के सभी कूड़े अड्डे खत्म कर दिए जाएंगे.

बाक्स

कचरे से बिजली बनाने का प्रस्ताव

रायबरेली की एक कंपनी ने कचरे से बिजली बनाने का प्रस्ताव नगर निगम इलाहाबाद को दिया है. कंपनी के इस प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है. कंपनी का दावा है कि उसके प्रोजेक्ट से शहर का कचरा हर दिन का नष्ट होता रहेगा और बिजली भी पैदा होगी. अपनी बिजली पैदा होने पर बिजली का खर्च भी कम हो जाएगा.

बॉक्स

पोर्ट स्टेशन के होंगे ये फायदे

-टीन शेड के साथ ही खुले में चल रहे बदबूदार कूड़ा अड्डों की जगह पूरी तरह पैक्ड होगा पोर्ट स्टेशन.

-चारों तरफ से पैक्ड पोर्ट स्टेशन में लगे होंगे शटर. शटर बंद होने से कचरा नहीं आ पाएगा बाहर और बदबू से मिलेगी निजात

- पोर्ट स्टेशनों के बन जाने के बाद बदबू से तो निजात मिलेगी ही, मच्छर व मच्छर जनित रोग का भी खतरा हो जाएगा कम

वर्जन-

हरी-भरी ने बहुत मनमानी कर ली. अब शहर को कचरा पेटी बनाने नहीं दिया जाएगा. पोर्ट स्टेशन बनाकर शहर से निकलने वाले कचरे को बसवार प्लांट ले जाकर निस्तारित कराया जाएगा. 33 पोर्ट स्टेशन बनाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है.

अभिलाषा गुप्ता,

मेयर नगर निगम