- 6 बदमाशों ने भमोरा में जरी व्यापारी के घर डाली डकैती

- भाई को पीटकर किया घायल, ग्रामीणों ने दो बदमाशो को पकड़ा

bareilly@inext.co.in
BAREILLY : भमोरा के बमियाना गांव में ट्यूजडे रात 6 बदमाशों ने जरी व्यापारी चमन और उसके भाई के परिवार को बंधक बनाकर 10 लाख रुपए नकद और पांच लाख रुपए के गहने लूट लिए. व्यापारी और उसके भाई ने जब विरोध किया तो बदमाशों ने चमन की गोली मारकर हत्या कर दी. शोर सुनकर मौके पर जमा हुए ग्रामीणों ने दो बदमाशों को दबोच लिया और उनकी पिटाई कर पुलिस को सौंप दिया. एसएसपी मुनिराज जी और एसपी देहात सतीश कुमार ने वेडनेसडे सुबह मौका मुआयना किया. सूत्रों का कहना है कि फरार बदमाशों में दो गांव के ही हैं और उन्हों ने ही मुखबिरी की थी.

रात करीब एक बजे चमन की मानसिक रूप से कमजोर मां लतीफन घर के बरामदे में सोई हुई थी. किसी ने घर के दरवाजे को खटखटा कर चमन को आवाज दी. लतीफन ने बिना कुछ पूछे दरवाजा खोल दिया. दरवाजा खुलते ही 6 बदमाश घर में घुस आए. मां को बंधक बनाकर बदमाशों ने चमन को आवाज दी. घर के एक कमरे में पत्नी रूबी और बेटे मो. कासिम के साथ सो रहे चमन ने दरवाजा खोल दिया. बदमाशों ने रूबी को गन प्वाइंट पर लेकर 10 लाख रुपए नकद और गहने लूट लिए. फिर बदमाशों ने चमन को कमरे में बंद कर उसके छोटे भाई नसीमुद्दीन को आवाज देकर उसके कमरे का भी दरवाजा खुलवा लिया. गेट खुलते ही बदमाशों ने नसीमुद्दीन के बच्चों को गन प्वाइंट पर लेकर उसकी पत्‍‌नी के गहने लूट लिए.

नसीमुद्दीन को बाहर ले जाकर पीटा

नसीमुद्दीन ने जब लूट का विरोध किया तो बदमाशों ने उसे लात घूसों से पीटना शुरू कर दिया. शोर मचाने पर उसके सिर पर तमंचे की बट से प्रहार किया उसे खींचते हुए घर से बाहर ले गए.

पेट को चीर कर निकल गई गोली

मौका पाकर नसीमुद्दीन की पत्‍‌नी आसमां ने चमन के कमरे की कुंडी खोलकर उसे बाहर निकाला. नसीमुद्दीन की चीख पुकार सुनकर चमन बदमाशों से भिड़ गया. उसने दो बदमाशों को दबोच भी लिया. चमन को भारी पड़ता देख एक बदमाश ने उसके पेट में गोली मार दी, जो उसे चीरते हुए दूसरी ओर से निकल गई. शोर सुनकर गांव के दूसरे लोग भी मौके पर आ गए और उन्होंने भाग रहे दो बदमाशों को दबोच लिया.

बदायूं से आए थे डकैत

पूछताछ में बदमाशों ने अपने नाम

अच्छन और नावेद उर्फ नवेली बताए. अच्छन बदायूं के बहादुरगंज और नावेद बदायूं के ककराला थाना के अलापुर का रहने वाला है. पूछताछ में दोनों ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिलने पर वे और उसके साथी गाड़ी से डकैती डालने आए थे. किसी को भनक ना लगे इसलिए उन्होंने गाड़ी को गांव के बाहर खड़ा कर दिया था. पूछताछ में बदमाशों ने फरार बदमाशों के नामों काखुलासा भी पुलिस के सामने कर दिया है.


जरी कारीगरों को बांटने के लिए शहर से लाया था 10 लाख रुपए

घायल नसीमुद्दीन ने बताया कि जरी कारीगरों को बांटने के लिए चमन ट्यूजडे दोपहर 10 लाख रुपए शहर के व्यापारी से लेकर घर आया था. लेकिन किसी ने उसकी मुखबिरी बदमाशाें से कर दी.

पांच भाइयों में सबसे बड़ा था चमन

नसीमुद्दीन के मुताबकि वह पांच भाइयों में सबसे बड़े चमन के कारोबार में हाथ बंटाता था. तीसरे नंबर का भाई हसनैन घर से थोड़ा दूर रहता है, जो वारदात के वक्त अपने घर में ही था और बाद में मौके पर भी पहुंचा. चौथे नंबर का भाई सलीम शाहजहांपुर में मौलवी है जबकि सबसे छोटा भाई मुस्लिम बहेड़ी में उर्दू की पढ़ाई कर रहा है.

वर्जन

वारदात में शामिल दो बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस फरार बदमाशों और मुखबिरी करने वाले को तलाश रही है. जल्द ही इन्हें भी गिरफ्तार कर लूट की रकम को बरामद कर लिया जाएगा.

डॉ. सतीश कुमार, एसपी देहात