चेहरा पड़ गया था नीला, साड़ी थी अस्त-व्यस्त

नहीं हो सकी पहचान, पुलिस ने बॉडी पोस्टमार्टम को भेजी

allahabad@inext.co.in

उम्र करीब 35 से 40 वर्ष के आसपास होगी. माथे पर बिंदी. पैर रंगे हुए थे और पायल भी पहन रखी थी. शरीर पर मल्टी कलर की चुनरी साड़ी. हाथों में चूड़ी के बाद रक्षा सूत्र भी बंधा था. देखने में किसी ठीक ठाक परिवार की दिखने वाली महिला काल का क्रूर शिकार खुद बन गयी या किसी ने बना दिया? जो भी स्पॉट पर पहुंचा, हर किसी के जवाब पर यही सवाल था. साड़ी की दशा बलात्कार जैसे इशारे दे रही थी. बॉडी स्पॉट पर घंटों पड़ी रही. पुलिस ने आसपास के गावों में सूचना भेजवायी लेकिन कोई पहचान के लिए सामने नहीं आया तो, पूरे घटनाक्रम से पर्दा नहीं उठा.

ग्रामीणों ने देखा, पुलिस को बताया

घटना दिल्ली-हावड़ा हाई के किनारे सोरांव थाना क्षेत्र के चांदपुर मटियारा गांव के सामने सोमवार की सुबह प्रकाश में आयी. गांव के रहने वाले युवक सुबह घरों से निकले और सड़क किनारे झाड़ी में महिला का शव देख दंग रह गये. चेहरा आलमोस्ट नीला पड़ चुका था. नाक से खून आ रहा था. शरीर पर कोई और चोट का निशान सामने से नहीं दिख रहा था. ग्रामीणों ने इसकी सूचना सोरांव थाने की पुलिस को दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रथम दृष्टया इसे दुर्घटना बताने की कोशिश की. लेकिन, इस सवाल का उसके पास कोई जवाब नहीं था कि यदि दुर्घटना होती तो वाहन चालक या कोई रिश्तेदार बॉडी छोड़कर भाग क्यों जाता? कम से कम पहचान के लिए तो आता ही. जबकि शाम तक थाने पुलिस की कोशिशों के बाद भी कोई नहीं पहुंचा था.

जहर देकर मारा गया महिला को

मौके पर जुटे स्थानीय लोगों का कहना था कि रात में यहां लोगों का आना-जाना बना रहता है. कल त्यौहार था तो देर रात तक लोग इधर से गुजरे लेकिन वहां कोई बॉडी नहीं थी. साड़ी कमर से नीचे बुरी तरह से अस्त-व्यस्त होने और चेहरा नीला पड़ जाने से आशंका जतायी गयी कि महिला के साथ दुष्कर्म हुआ होगा और उसे मौत की नींद सुलाने के लिए जहर दे दिया गया होगा. काफी कोशिश के बाद भी कुछ पता न चलने पर पुलिस ने बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

दुर्घटना भी हो सकती है और मर्डर करके बॉडी फेंक दिया जाना भी संभव है. बॉडी पीएम के लिए भेज दी गयी है. रिपोर्ट आने के बाद ही असलियत सामने आ सकेगी.

सुरेन्द्र नाथ

थाना प्रभारी, सोरांव

महिला के डिवाइडर से नीचे गिरना मौत का कारण हो सकता है. चेहरा काला पडने से पेंच फंस गया है जो शिनाख्त और पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही दूर हो सकता है.

जितेन्द्र गिरी

सीओ सोरांव