स्न्क्त्रन्ढ्ढयश्वरुन् : राजनगर थाना क्षेत्र के हनुमतबेड़ा में एक विधवा महिला मालहो देवी(46) की डायन के संदेह में हत्या कर दी गई. हत्या के बाद फर्श को गोबर से लीप कर हत्यारों ने साक्ष्य मिटाने की कोशिश की. हत्यारोपियों ने शव दफनाने की तैयारी कर दी थी. मगर पुलिस तक खबर पहुंची तो सारा पोल खुल गया. जेडीपी नेता सुगनाथ हेम्ब्रम ने घटना की सूचना थाना प्रभारी यज्ञ नारायण को दी. जिसके बाद पुलिस घटनास्थल पर गई. घटना गुरुवार की देर रात साढ़े ग्यारह बजे की है. घटना को एक ओझा समेत एक ही परिवार के पांच लोगों ने अंजाम दिया. शुक्रवार को पुलिस घटनास्थल पहुंच कर महिला की शव को बरामद किया.

रात में घटना को अंजाम

शुक्रवार को पुलिस के समक्ष चना मुर्मू ने बयान दर्ज कराया. उसने बताया कि वह अपनी मां के साथ रात को खाना खा कर सोये थे. करीब 11 बजे रात को कुछ लोगों ने बाहर से दरवाजा खटखटाया. वे लोग दरवाजा तोड़ कर अंदर घुसे और मेरी मां को पकड़ लिया धार धार हथियार से मेरी मां पर हमला कर रहे थे. मेरी मां ने मुझे चीखते चिल्लाते हुए मुझे भागने को कहा. ये लोग मुझे मार रहे हैं. मैं पीछे की दरवाजे से भागने की कोशिश की मगर मुझे मेरी बड़ी मां रजली देवी, दीदी चंपा मुर्मू और भाई लखन मुर्मू ने पकड़ लिया. मेरा मुंह बंद कर दिया और दूसरे घर ले गये. रात भर उनलोगों ने मुझे अपने साथ सुलाया.

किसी तो बताया तो जिंदा नहीं बचोगे

बेटे ने बताया कि मां को उड़ीसा से आए ओझा लाभा टुडु उर्फ भालू के कहने पर बड़ा पिताजी कल्याण मुर्मू का पुत्र चना मुर्मू(20) ने मेरी मां को मार डाला. मां को मारने में ओझा भी शामिल था. सुबह बड़ा पिताजी कल्याण मुर्मू आया और समझाने लगा कि घटना के संबंध में किसी को कुछ नहीं बताना. हम तुम्हें पढ़ाएंगे लिखाएंगे और तुम्हारी शादी भी कराएंगे. अगर बताओगे तो तुम भी ¨जदा नहीं रहोगे.

जमीन हथियाने के लिए हत्या

चना मुर्मू ने यह भी बताया कि मैं अकेला हूं. इसलिए जमीन पर मेरे ताऊ जी की नजर है. उसने मेरे आधार कार्ड में मेरे पिता स्व किशुन मुर्मू के जगह अपना नाम दर्ज कराया है. मेरी मां को डायन साबित करने के लिए ओडिशा ति¨रग थाना क्षेत्र के कोमराम गांव से ओझा लाभा टुडु को लाते थे.

पांच को आरोपी बनाया

बच्चे के बयान पर रजली देवी पति कल्याण हांसदा, चना मुर्मू पिता कल्याण हांसदा, लखन मुर्मू पिता कल्याण हांसदा, चंपा मुर्मू पिता कल्याण हांसदा और ओझा लाभा टुडु. ओझा को छोड़ सभी आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. ओझा फरार है जिसकी पुलिस तलास कर रही है.