agra@inext.co.in
AGRA : थाना सिकंदरा के शास्त्रीपुरम् में सनसनीखेज मामला सामने आया. प्रेमिका ने युवक को व्हाट्सएप पर मैसेज कर मिलने के लिए बुलाया. घर पहुंचने पर प्रेमिका के पति और उसके परिवारवालों ने युवक को पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया. शव को जंगल में फेंक आए. प्रेमिका ने थाने पहुंचकर घटना की जानकारी दी. पुलिस ने शव बरामद करते हुए प्रेमिका समेत अन्य हत्यारोपियों को हिरासत में लिया है.

दोनों की हो गई शादी
अटूस निवासी 27 वर्षीय योगेश पुत्र राजन सिंह सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा था. पिता का दूध का कारोबार है. घर से 400 मीटर दूरी पर युवती का मकान है, जिससे उसके प्रेम संबंध हो गए. दोनों शादी करना चाहते थे, लेकिन दोनों के परिजन इसके लिए तैयार नहीं थे. चार साल पहले युवती की शादी मेरठ निवासी नेत्रपाल से हो गई. पति एमआर का काम करता था.

आगरा शिफ्ट हुआ परिवार
कुछ साल पूर्व युवती का पति परिवार के साथ शास्त्रीपुरम में किराए के मकान में रहने लगा. इधर, परिजनों ने योगेश की तीन वर्ष पहले शादी कर दी. उसके एक डेढ़ वर्ष की बच्ची है. दोनों की अलग-अलग शादी होने के बाद भी प्रेम संबंध खत्म नहीं हुआ. उनका मिलना-मिलाना जारी था. फोन पर बात भी होती थी.

मैसेज कर बुलाया
पुलिस के मुताबिक शनिवार दोपहर करीब 12 बजे युवती ने योगेश को मिलने के लिए व्हाट्सअप पर मैसेज किया. 12 बजे योगेश परिजनों से पुलिस भर्ती का फॉर्म भरने की बात बोलकर निकला. इसके बाद परिजनों ने मोबाइल पर कॉल किया, लेकिन कॉल रिसीव नहीं हुआ. परिजन उसकी राह देख रहे थे.

प्रेमिका ने पुलिस को बताया
शनिवार की शाम को प्रेमिका थाना सिकंदरा पहुंच गई. उसने बताया कि उसके पति व अन्य रिश्तेदारों ने योगेश को मार डाला है. वह उसे कार में डाल कर ले गए. इसके बाद पुलिस उसकी तलाश में जुट गई. रात नौ बजे पुलिस ने योगेश के घर पर जाकर बेटे के बारे में पूछा तो परिजनों को कुछ नहीं पता था. इसके बाद उन्होंने सच्चाई बताई.

रविवार को बॉडी बरामद की
पुलिस ने रविवार की सुबह उसकी बॉडी जऊपुरा के जंगल से बरामद की. पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त रोड भी बरामद कर ली. मृतक के परिजनों के मुताबिक उसे रॉड से बुरी तरह मारा है. उसके सारे शरीर पर चोट के निशान हैं. प्रेमिका ने पुलिस को बताया कि जब योगेश उससे मिलने आया तो पति आ गया. उसने योगेश को कमरे में बंद कर दिया. इसके बाद पति नेत्रपाल, पिता नरेंद्र व ताऊ कृष्णवीर आ गए. लोहे की रॉड से पीट-पीटकर उसे मौत के घाट उतार दिया.

पुलिस ने किया गुमराह
योगेश के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें गुमराह किया. पुलिस रात से गुमराह करती रही. परिजनों का सवाल है कि आखिर घटना की जानकारी नहीं होने पर पुलिस ने रात में शव क्यों नहीं बरामद किया. रविवार की सुबह भी परिजनों को बोल दिया कि शव जऊपुरा में पड़ा है. परिजन वहां पर पहुंचे तो शव पोस्टमार्टम हाउस जा चुका था. पुलिस ने मामले में प्रेमिका व उसके पिता नरेंद्र व पति नेत्रपाल को हिरासत में लिया है. ताऊ कृष्णवीर मौके से फरार हो गया. युवती के पिता आर्मी से रिटायर्ड बताए गए हैं. मृतक के भाई शिशुपाल ने मुकदमा दर्ज कराया है.