-आईक्यूएसी की बैठक में कुलपति ने दिए जरूरी निर्देश

-वर्ष 2021 के बाद होना है नैक मूल्यांकन

बरेली:

आरयू में फ्राइडे को आईक्यूएसी की बैठक वीसी प्रो. अनिल शुक्ल की अध्यक्षता में हुई. बैठक में वीसी ने सभी सदस्यों को आगामी नैक मूल्यांकन की अभी से तैयारी करने के निर्देश दिए. आरयू का नैक मूल्यांकन वर्ष 2016 में हुआ था जिसमें 2.55 सीजीपीए के साथ फोर प्वाइंट स्केल पर 'बी' ग्रेड मिला था. जबकि अगामी मूल्यांकन वर्ष 2021 के बाद होगा. आईक्यूएसी को-आर्डिनेटर प्रो. बीआर कुकरेती ने पिछली नैक पीयर टीम के दिए गए सुझावों को बिन्दुवार पेश किया. बैठक में अब तक की प्रगति की भी समीक्षा की गई. आईक्यूएसी मेम्बर सेक्रेटरी प्रो. रश्मि अग्रवाल ने बिन्दुवार अख्या पेश की. बैठक में वीसी ने कहा कि सभी लोग मिलकर कार्य करेंगे तो नैक मूल्यांकन में ए ग्रेड प्राप्त किया जा सकता है. बैठक में कुलपति अशोक कुमार अरविन्द, वित्त अधिकारी एससी उपाध्याय, परीक्षा नियंत्रक डॉ. संजीव कुमार और प्रो. एनएन पाण्डेय आदि मौजूद रहे.

इन बिन्दुओं पर हुई चर्चा

-आरयू का एकेडमिक ऑडिट कराया जाएगा

-आरयू की एलिमुनाई एसोसिएशन को पंजीकृत किया जाए

-अन्तर्राष्ट्रीय स्टूडेंट्स को आकर्षित करने हेतु विभिन्न देशों के दूतावासों से सम्पर्क किया जाए

-आरयू परिसर में पीजी पाठ्यक्रम में सीबीसीएस प्रणाली लागू की जाए

-स्टूडेंट्स की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए बायोमैट्रिक हाजिरी लगाई जाए

-ई-वेस्ट मैनेजमेंट पर कार्रवाई के लिए एजेंसी से संपर्क कर परिसर में इलेक्ट्रानिक वेस्ट मैटेरियल का निस्तारण किया जाए

-आरयू में टीचर और फैकल्टी डेवलपमेंट कार्यक्रम में कर्मचारियों की कैपेसिटी बिल्डिंग कार्यक्रम आयोजित होंगे

-गरीब स्टूडेंट्स के लिए पूअर फंड की स्थापना होगी

-आरयू के कुछ विभागों में सॉफ्ट स्किल कोर्स शुरू किए जाएंगे

-सभी विभागों के सिलेबस को वर्तमान आवश्यकता के अनुसार परिवर्तित किया जाए

-आरयू की पीएचडी थीसिस को शोध गंगा पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा व एंटी प्लेजरिज्म सॉफ्टवेयर खरीदा जाएगा

-स्टूडेंट्स, पेरेंट्स और समुदाय से पाठयक्रम शिक्षण व अन्य प्रकरणों पर फीडबैक लेने की व्यवस्था की जाए

-आरयू परिसर में जेंडर सेंसिटिविटी सेल, छात्र ग्रीवांस सेल, एंटी रैंगिंग कमेटी को सुदृढ़ बनाया जाए

-आरयू के लिए दीर्घकालीन योजना बनाने के लिए पैनल बनाया जाएगा. जिसमें आईक्यूएसी को-आर्डिनेटर सहित 2-3 पूर्व कुलपति बरेली के 2-3 गणमान्य व्यक्ति वरिष्ठ प्रोफेसर्स को शामिल किया जाएगा.