- लोगों ने घेरा तो केंद्रीय मंत्री ने नगर आयुक्त को लगाया फोन

- जलभराव से गुस्साए लोगों ने सिकलापुर तिराहा किया जाम

BAREILLY:

जलभराव और कीचड़ का दंश झेल रहे सिकलापुर के लोगों का भी सब्र आखिरकार जवाब दे गया. संडे को बड़ी संख्या में लोग सड़क पर उतरे और रास्ता जाम कर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया. राजेन्द्र नगर के बाशिंदों की भूख हड़ताल का दबाव झेल रहे नगर निगम के अफसर तुरंत हरकत में आए साफ-सफाई के लिए मशीनें भेज दीं, जिसके बाद लोगों ने जाम खत्म किया. वहीं राजेंद्र नगर की समस्या के समाधान के लिए केंद्रीय राज्य मंत्री संतोष गंगवार आगे आए. समस्या के समाधान का आश्वासन दिया. उन्होंने भूख हड़ताल पर बैठे सुदेश गुप्ता को जूस पिलाकर उनकी भूख हड़ताल को खत्म कराया. .

घेराव करके बताई समस्या

एक तरफ तो सुदेश गुप्ता अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर डटे हुए थे. तो वहीं दूसरी ओर उनके साथ बैठे लोगों ने केंद्रीय राज्य मंत्री संतोष गंगवार के कार्यलय पर पहुंचकर उनका घेराव कर लिया. लोगों ने बताया कि जब से भूख हड़ताल पर सुदेश गुप्ता बैठे है तब से एक भी दिन कोई भी अधिकारी वहां पर उन्हें देखने नहीं आया है. जिस पर संतोष गंगवार ने तत्काल नगर आयुक्त को फोन लगाया और उनसे बात की.

नाले का बजट बन चुका है

फोन पर नगर आयुक्त ने कहा कि नाले का एक बार बजट बना था जो बोर्ड की बैठक में खारिज हो गया. जिसके बाद दोबारा करीब सवा दो करोड़ का बजट बन चुका है. जैसे ही बोर्ड की बैठक में यह बजट पास हो जाएगा तत्काल नाले का काम शुरू करा दिया जाएगा. शाम करीब छह बजे केंद्रीय राज्य मंत्री संतोष गंगवार, शहर विधायक डॉ. अरुण कुमार और नगर आयुक्त ने राजेंद्र नगर पहुंचकर भूख हड़ताल पर बैठे सुदेश गुप्ता को जूस पिलाकर भूख हड़ताल खत्म कराई.

----------------

जाम किया सिकलापुर तिराहा

जलभराव की समस्या से गुस्साए वार्ड नंबर 64 के लोगों ने संडे को सिकलापुर तिराहा जाम कर दिया और नगर निगम के खिलाफ नारेबाजी करने लगे. उनका कहना था कि जब से बारिश हुई है तब से लेकर अभी तक घरों से पानी नहीं निकला है. कहां रहें कुछ समझ नहीं आ रहा. पीने का पानी साफ नही आ रहा है. सीवर भी चोक है. जिसकी वजह से पूरे वार्ड में गंदगी फैल गई है. घरों में बदबू आने लगी है और बच्चे बीमार होने लगे हैं. लेकिन नगर निगम के अफसर इस पर ध्यान नहीं दे रहे हैं. जाम लगाने की सूचना पर नगर निगम की टीम ने जाकर नालों की सफाई के लिए एक मशीन लगा दी. जिसके बाद लोगों का गुस्सा शांत हुआ और जाम खोला.