ओसाका (पीटीआई)। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी 28-29 जून को जापान में होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए पहुंचे हैं। इस दाैरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापानी पीएम  शिंजो आबे ने वैश्विक अर्थव्यवस्था, आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दों पर बातचीत की। जापान के रीवा युग की शुरुआत और भारत में आम चुनाव के बाद दोनों नेताओं के बीच यह पहली बैठक थी।रीवा नए युग के लिये इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है। यह दो अक्षरों री और वा से मिलकर बना है, जिसमें री का अर्थ है आदेश या शुभ अथवा अच्छा और वा का अर्थ भाईचारा है।

पीएम माेदी आबे के भारत दौरे को लेकर उत्सुक

पीएम नरेंद्र मोदी ने जापान के पीएम शिंजो आबे को जी 20 शिखर सम्मेलन में उनका और साथ गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए धन्यवाद दिया। इतना ही उन्होंने जी 20 के अध्यक्ष के रूप में जापान के नेतृत्व की भी सराहना की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वह इस साल वार्षिक सम्मेलन के लिये प्रधानमंत्री आबे के भारत दौरे को लेकर उत्सुक हैं। वहीं मीडिया के ब्रीफिंग में विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा कि दो प्रधानमंत्रियों व पुराने दोस्तों के रूप में यह गर्मजोशी से भरी मुलाकात थी। द्विपक्षीय संबंधों पर उनके बीच व्यापक चर्चा हुई है।

पुतिन के निमंत्रण पर मोदी होंगे मुख्य अतिथि
गोखले ने यह भी कहा है पीएम आबे को उम्मीद है जिन मुद्दों पर चर्चा हुई है उन्हें भारत सहित जी 20 सदस्यों का समर्थन मिलेगा। दोनों नेताओं ने मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर और पीएम मोदी के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में बन रहे एक सम्मेलन केंद्र पर भी चर्चा की।पीएम मोदी ने कहा कि सितंबर की शुरू में रूस के व्लादिवोस्तोक में होने वाले पूर्वी आर्थिक मंच पर अाबे को देखने के लिए उत्सुक हैं।राष्ट्रपति पुतिन के निमंत्रण पर पीएम मोदी वहां मुख्य अतिथि होंगे।पीएम मोदी ने पूर्वोत्तर भारत में बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में जापान द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की।  
पहला टूथब्रश : आज ही के दिन चीन के राजा ने कराया था पेटेंट
इन क्षेत्रों में जापान का समर्थन महत्वपूर्ण है
इस मुलाकात के दाैरान दोनों नेताओं ने संयुक्त रूप से पड़ोसी देशों की परियोजनाएं लेने पर भी जोर दिया। मोदी ने कहा कि केन्या में कैंसर अस्पताल की स्थापना भारत और जापान की महत्वपूर्ण परियोजनाओं में से एक है। वहीं मोदी ने आपदा प्रबंधन, पुनर्वास और पुनर्निर्माण में जापान का समर्थन मांगा क्यों अनुभव के आधार पर इस क्षेत्र में जापान का समर्थन महत्वपूर्ण है। बता दें कि पीएम आबे 20 शिखर सम्मेलन में शामिल हो रहे पीएम मोदी के अलावा, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूसी राष्ट्रपति पुतिन और अन्य नेताओं से मुलाकात करेंगे।

International News inextlive from World News Desk