झारखंड में चलया जा रहा है कांबिंग ऑपरेशन

PATNA: बिहार की सीमा से सटे झारखंड के कई जिलों में चल रहे कांबिंग ऑपरेशन का साइड इफेक्ट अब बिहार के सीमावर्ती जिलों में भी दिखने लगा है. झारखंड से भागे नक्सली, बिहार के जमुई, लखीसराय, और बांका जिलों में पनाह लेने लगे हैं. बता दें कि झारखंड में पांच लाख का इनामी नक्सली सबजोनल कमांडर चार्ली की गिरफ्तारी के लिए झारखंड पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा बलों ने ऑपरेशन चार्ली चला रही है. इस ऑपरेशन में झारखंड पुलिस ने चार्ली समेत उसके दस्ते को एक तरह से ध्वस्त कर दिया है. उसके गिरीडीह के कई ठिकानों और कैंपों को टारगेट करते हुए अबतक कुल 15 नक्सलियों को भारी संख्या में हथियार और गोला-बारूद समेत दबोचा जा चुका है.

बिहार की सीमा में घुसे

गिरफ्तार नक्सलियों में बिहार-झारखंड स्पेशल एरिया कमेटी का सदस्य व 25 लाख का इनामी सुनील मांझी और पांच लाख का इनामी सबजोनल कमांडर सोहन भुइयां भी झारखंड पुलिस के हत्थे चढ़ चुका है. ऐसे में झारखंड के जंगलों व पहाडिय़ों में पनाह लेने वाले नक्सली तेजी से बिहार का रुख करने लगे हैं.

जंगलों में कांबिंग ऑपरेशन

बता दें कि विगत रविवार को इसी कांबिंग ऑपरेशन के तहत बिहार एसटीएफ के साथ नक्सलियों के एक दस्ते से लखीसराय में मुठभेड़ भी हुई थी, जिसके बाद जबतक एसटीएफ की टीम नक्सलियों को जवाब देती, तबतक नक्सली घने जंगलों का लाभ उठाते हुए फरार हो गए.

बिहार में हाईअलर्ट

छत्तीसगढ़ के सुकमा में सुरक्षा बलों पर हुए नक्सली हमले के बाद गृह मंत्रालय ने छत्तीसगढ़, बिहार व झारखंड समेत देश के सभी नक्सल प्रभावित राज्यों को हाईअलर्ट कर दिया है. मंगलवार को छत्तीसगढ़ के सुकमा में प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा (माओवादी) के हमले में कोबरा बटालियन के कुल नौ जवान मौके पर शहीद हो गए.