निर्वाचन आयोग से मेरठ में भेजी जा रही नई ईवीएम, 15 सितंबर तक

पहुचेंगी मेरठ

12 साल पुरानी मशीनों में लगातार आ रही थी शिकायतें, आयोग ने लिया संज्ञान

Meerut. आखिरकार 12 साल पुरानी इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से मेरठ को निजात मिल गई है. अब 2019 का लोकसभा चुनाव नई ईवीएम से होगा. ईवीएम को लेकर लगातार आ रही शिकायतों को संज्ञान में लेकर भारत निर्वाचन आयोग ने नई ईवीएम से लोकसभा चुनाव कराने का फैसला ि1लया है.

सितंबर तक आएंगी ईवीएम

जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने बताया कि मेरठ में भारत निर्वाचन आयोग द्वारा 4384 नई बैलेट यूनिट, 3243 नई कंट्रोल यूनिट और 3243 वीवीपैट (वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) भेजी जा रही हैं. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर मेरठ समेत प्रदेश के सभी जनपदों में नई ईवीएम का आवंटन किया गया है. प्रदेश के सभी जनपदों में नई 269000 बैलेट यूनिट और 176017 कंट्रोल यूनिट भेजी जा रही हैं.

बीईएल ने बनाई मशीनें

जानकारी के मुताबिक नई ईवीएम का निर्माण भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड (बीईएल) ने किया है. पूर्व में इलेक्ट्रॉनिक कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (आईसीईएल) ने ईवीएम का निर्माण किया था. दोनों ही ईवीएम निर्माता कंपनियां भारत सरकार की उपक्रम हैं. डीएम अनिल ढींगरा के मुताबिक लोकसभा चुनाव के मद्देनजर नई ईवीएम और वीवीपैट मेरठ के लिए भेजी जा रही हैं. भारत निर्वाचन आयोग द्वारा यह मशीनें सितंबर माह तक मेरठ पहुंच जाएंगी.

फैक्ट एंड फिगर

7-मेरठ में विधानसभा क्षेत्र

2682-मेरठ में पोलिंग बूथ

4384-मेरठ के लिए बैलेट यूनिट

3243-मेरठ के लिए कंट्रोल यूनिट

3243-मेरठ के लिए वीवीपैट

269000-प्रदेश के लिए कुल बैलेट यूनिट

176017-प्रदेश के लिए कुल कंट्रोल यूनिट