कुंभ मेला से पहले यमुना ब्रिज पर स्थाई रूप से लगाई जाएगी फसाड लाइटिंग, पावर कारपोरेशन देगा सप्लाई

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: देश-दुनिया के साथ शहरियों को भी कुंभ मेला ऐसी सौगात देने जा रहा है, जिसकी खूबसूरती से रात हमेशा के लिए रोशन हो जाएगी. जीहां, पर्यटन विभाग की ओर से नए यमुना ब्रिज पर फसाड लाइटिंग लगाई जाएगी. ब्रिज पर लगाई जाने वाली लाइटिंग न केवल कुंभ मेला के दौरान यहां आने वाले हर किसी श्रद्धालु को अचंभित करती रहेगी बल्कि यह लाइटिंग पावर कारपोरेशन के सहयोग से स्थाई रूप से रातभर रोशन से जगमग होती रहेगी.

बाहर हुए तीन ऐतिहासिक स्थल

विभाग की ओर से कुंभ मेला के दौरान अकबर का किला, पत्थर गिरजाघर, नया यमुना ब्रिज और इलाहाबाद विश्वविद्यालय के विजयनगरम हॉल पर फसाड लाइटिंग लगाने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया था. इसके लिए साढ़े तेरह करोड़ का बजट मांगा गया था. लेकिन चार में से सिर्फ नए यमुना ब्रिज पर ही लाइटिंग लगाने के प्रस्ताव को ही मंजूरी दी गई है.

बैठक में बजट हुआ स्वीकृत

लखनऊ में नौ अगस्त को मुख्य सचिव अनूप पांडेय की अध्यक्षता में कुंभ कार्यो को लेकर बैठक बुलाई गई थी. इसमें पर्यटन विभाग के लाइटिंग वाले प्रस्ताव पर चर्चा हुई. क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी अनुपम श्रीवास्तव की मानें तो महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट के रुप में सिर्फ नए यमुना ब्रिज पर लाइटिंग की व्यवस्था के लिए पांच करोड़ बाइस लाख रुपए के बजट को मंजूरी दी गई है.

दिसम्बर से जगमग होगा ब्रिज

कुंभ मेला का शुभारंभ पंद्रह जनवरी को पहले शाही स्नान मकर संक्रांति से होगा लेकिन यमुना ब्रिज पर लाइटिंग का कार्य दिसम्बर के पहले सप्ताह तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. श्री श्रीवास्तव ने बताया कि जल्द ही राजकीय निर्माण निगम को कार्य कराने की जिम्मेदारी सौंप दी जाएगी. जब लाइटिंग लगा दी जाएगी तो उसके बाद पावर कारपोरेशन से उसके लिए कनेक्शन लिया जाएगा.

क्या है फसाड लाइटिंग

-यह ऐसी लाइटिंग होती है जिसमें किसी भी स्थल के एक छोर और अंतिम छोर पर जमीन पर लाइट लगाई जाती है.

-इसका असर ऊपर की ओर एक किमी तक और धरातल पर तीन किमी के दायरे में रंग बिरंगी लाइट जगमगा रहेगा.

-नए यमुना ब्रिज पर के भी दोनों छोर पर इसे लगाया जाएगा.

शासन ने सिर्फ महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट के अन्तर्गत नए यमुना ब्रिज पर लाइटिंग लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है. ज्यादा से ज्यादा इम्पैक्ट दिखाई दे इसी वजह से ब्रिज को चिन्हित किया गया है. दिसम्बर तक कार्य कम्प्लीट हो जाएगा जो हमेशा के लिए रहेगा.

-दिनेश कुमार, उप निदेशक पर्यटन