lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) की नेटवर्किंग सिक्योरिटी में शनिवार देर रात सेंध लगाकर विभाग की वेबसाइट हैक कर ली गई। ऐसे में दो लाख कर्मचारियों के ब्योरे समेत तमाम डाटा गायब हो गया। एनआईसी के इंजीनियरों की टीम वेबसाइट को हैकर्स से मुक्त कराने में जुटी हुई है। एनएचएम की वेबसाइट पर केंद्र सरकार की योजनाओं का ब्योरा था। इसके साथ-साथ एक लाख 45 हजार आशा बहुओं के साथ 45 हजार से अधिक अन्य स्टाफ का रिकॉर्ड भी दर्ज था। शनिवार देर रात वेबसाइट हैक कर ली गई। रविवार सुबह विभाग के मैनेजमेंट इंफॉर्मेशन सिस्टम (एमआईएस) के कर्मचारियों ने वेबसाइट ओपन की तो वेबसाइट हैक होने की जानकारी मिली। कर्मचारियों ने अफसरों को सूचना दी।

कहा-आपका कोई भी डेटा सुरक्षित नहीं

वेबसाइट हैकिंग की जानकारी मिलने पर अन्य कर्मचारियों ने भी रविवार सुबह उसे ओपन करने की कोशिश की। इस दौरान उसमें ब्लैक स्कॉर्पियन प्रो-ब्रोस लिखा था। साथ ही वेबसाइट खोलने पर हिंसक फोटो व पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लिखे थे। इसके अलावा कश्मीर को आजाद करने की मांग के साथ धमकी भी लिखी थी। हैकर ने कहा है कि आपका कोई भी डेटा सुरक्षित नहीं है। बैंक खाते और क्रेडिट कार्ड का डेटा भी उड़ाया जा सकता है। इसके एड्रेस में राहुलशर्मा डॉट कॉम/ब्लैकीडॉट लिखकर आ रहा है।

डॉक्टरों और कर्मचारियों में बेचैनी
वेबसाइट पर डॉक्टरों, फॉर्मासिस्ट, नर्स, स्टाफ नर्स, टेक्नीशियन आदि का रिकॉर्ड था। वहीं, विभाग की योजनाओं का भी ब्योरा था। ऐसे में पूरा ब्योरा गायब होने से कर्मचारियों के साथ-साथ विभागीय अधिकारी भी परेशान हैं।

अभी नहीं मिली सफलता
एनएचएम के एमआईएस का स्टाफ हैकर्स से वेबसाइट मुक्त कराने का संघर्ष करता रहा, मगर सफलता नहीं मिली। एनएचएम निदेशक पंकज कुमार ने वेबसाइट हैक होने की जानकारी दी। इसके बाद एनआईसी के एक्सपर्ट वेबसाइट को हैकर से मुक्त कराने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अभी सफलता नहीं मिली है।

रविवार सुबह एनएचएम की वेबसाइट हैक होने का पता चला। मामले की जानकारी एनआइसी को दी गई है। वेबसाइट पर स्टाफ आदिका ब्योरा था। कोई संवेदनशील डाटा नहीं था। वेबसाइट किसने हैक की, यह एक्सपर्ट ही बता सकेंगे।
पंकज कुमार, निदेशक एनएचएम

Crime News inextlive from Crime News Desk