ह्यड्डठ्ठड्डद्व.ह्यद्बठ्ठद्दद्ध@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र: शहर में एक बार फिर कैश की किल्लत हो रही है. शहर में जगह-जगह एटीएम के शटर गिरे हुए रहते हैं. इससे कैश के लिए लोग इधर-उधर भागते नजर आ रहे हैं. स्टेट बैंक के अधिकारियों ने बताया कि आरबीआई से पर्याप्त मात्रा में कैश मिलने की वजह से यह परेशानी हो रही है. शहर में एटीएम से दो हजार और पांच सौ के नोट कम ही निकल रहे हैं. एटीएम से कैश निकालने वाले एक दुकानदार ने बताया कि दो हजार और पांच सौ के नोटों के स्थान पर सौ और दो सौ रुपये के नोट ही निकल रहे हैं.

बैंकों के एटीएम पड़े खाली

शहर के प्रमुख बैंकों स्टेट बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, पीएनबी, यूबीआई, यूनियन बैंक, एचडीएफसी के एटीएम खाली पड़े हैं. लोगों का कहना है कि बैंक की शाखाओं में भी डिमांड के अनुरूप नकदी नहीं मिल पा रही है. शहर में कुल 250 एटीएम है, जिससे हर दिन लौहनगरी से 30 करोड़ रुपये की निकासी करते हैं. शहर में अकेले स्टेट बैंक के 125 एटीएम है जिससे 15 करोड़ की निकासी होती है. ऐसे में एटीएम में कैश कमी हो रही है.

बैंकों में लग रही है भीड़

एटीएम से पैसे नहीं निकलने की वजह से लोग कैश की निकासी के लिए बैंक पहुंच रहे हैं. इससे बैंक काउंटर में लोगो की भीड़ जुट रही है. इस वजह से लोगों को कैश की निकासी के लिए भी लंबा इंतजार करना पड़ रहा है.

अभी बैंकों में कैश की कमी है. जल्द ही इस समस्या से निजात मिल जाएगी. शादी लग्न की वजह से कैश की ज्यादा निकासी भी हो रही है. जल्द ही एटीएम में पूरी मात्रा में कैश भेजी जाएगी.

-आशुतोष कुमार, एजीएम, एसबीआई बिष्टुपुर

एटीएम में कैश नहीं होने के कारण काफी परेशानी हो रही है. दिन के 12 बजे के बाद शहर के ज्यादातर एटीएम के शटर गिर जाते हैं. कहीं भी जाएं तो पैसे निकालने दिक्कते होती है. इस पर बैंक मैनेजमेंट को कुछ करना चाहिए.

-विनोद सिंह, साकची

एटीएम में बहुत कम पैसे ही डाले जा रहे हैं. इस वजह से पैसे जल्द ही खत्म हो रहे हैं. बस्ती में लगाए एटीएम की हालत और दयनीय है. जेम्को में केवल दो एटीएम हैं और लोगों की संख्या काफी ज्यादा. बैंक वालों को एटीएम जहां केवल एक या दो एटीएम है वहां कैश ज्यादा डालना चाहिए.

-तरुण प्रसाद, साकची

अभी शादी, लग्न का समय चल रहा है. खरीदारी के लिए कैश की जरूरत पड़ती है और शहर के मुख्य जगहों में एटीएम के शटर डाउन रहते हैं. ऐसे में कैश की निकासी कैसे होगी. इस पर बैंक प्रशासन को सोचना चाहिए.

-सुनील अग्रवाल, गोलमुरी

एटीएम में शटर डाउन रहना नो कैश साइन मशीन पर लगे रहना बताता है कि बैंक मैनेजमेंट को लोगों की परेशानी की फिक्र नहीं है. सारे जगह को, तो छोडि़ए शहर के सबसे प्रमुख स्थान डीसी ऑफिस के पास वाले एटीएम के भी शटर डाउन रहते हैं या कैश नहीं रहते हैं.

-शंभू प्रकाश, कदमा