क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : लोहरदगा के भाजपा नेता पंकज गुप्ता हत्याकांड में पुलिस के हाथ खाली हैं. हत्याकांड के तीसरे दिन पुलिस की गतिविधि सिर्फ छापेमारी व जांच तक ही सीमित रही. इस वारदात को अंजाम देने वाले शूटर अभी भी गिरफ्त से बाहर हैं. पुलिस को जहां भी थोड़ा भी लिंक मिलता है, तो वहां छापे के लिए जाती है, पर निराश होकर वापस लौट जाती है. ऐसे में पंकज की हत्या किसने और क्यों की, इस बाबत कुछ भी ठोस जानकारी नहीं मिल पा रही है.

40 ठिकानों पर छापेमारी

हत्याकांड के बाद से अबतक पुलिस ने 80 लोगों से पूछताछ की और 40 से अधिक संभावित स्थानों पर छापेमारी कर चुकी है. पुलिस की पांच टीमें रांची, लोहरदगा और खूंटी के इलाके में छापेमारी कर रहा है. ग्रामीण एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग टीम को लगातार निर्देश देते हुए कई बिंदुओं पर जांच कर रहे हैं. ग्रामीण एसपी ने बताया कि हत्यारों के संबंध में कई सुराग हाथ लगे हैं.

28 संदिग्धों से चल रही पूछताछ

नगड़ी थाने की पुलिस अब तक 28 संदिग्धों से पूछताछ कर रही है. इनमें छह अब भी पुलिस की हिरासत में हैं. अपराधियों ने पूछताछ में कोई ठोस जानकारी नहीं दी है. हालांकि पुलिस को यह संकेत मिले हैं, कि पंकज गुप्ता की हत्या में क्षेत्र के अपराधियों की भूमिका या संलिप्तता नहीं है. ऐसे में पुलिस बाहरी अपराधियों का भी पता लगा रही है.