छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र: मानगो जलापूर्ति योजना इन दिनों पटरी से उतर गई है. मानगो इंटकवेल और वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का संचालन करने वाले ठेकेदार के कर्मचारी रातभर प्लांट बंद रखते हैं और दिन में चलाते हैं. इसके चलते वाटर ट्रीटमेंट प्लांट क्षमता के अनुसार भर नहीं पाता और कई इलाकों में कम प्रेशर की वजह से पानी पहुंच ही नहीं रहा है.

इंटकवेल और वाटर ट्रीटमेंट प्लांट को रातभर चलाना है. लेकिन, इसे रात में बंद रखा जाता है. प्लांट की क्षमता 48 मिलियन लीटर पर डे (एमएलडी) की है. लेकिन, रोज 15 एमएलडी पानी ही भरा जा रहा है. इस वजह से सभी पांच टंकियां फुल नहीं हो पातीं. अधूरी टंकियों की वजह से पाइप लाइन में पानी का प्रेशर नहीं बन पाता है. इसके चलते मानगो के दूरदराज के इलाकों में पानी नहीं पहुंच पाता. कुमरुम बस्ती के सुभाष शर्मा बताते हैं कि पहले जलापूर्ति ठीक थी. लेकिन, इधर महीने भर से ये गड़बड़ हो गई है. मामले की शिकायत इलाके के विधायक खाद्य आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के मंत्री सरयू राय से की गई. मंत्री ने रात में औचक निरीक्षण किया तब जाकर पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के आपरेटरों ने वाटर ट्रीटमेंट प्लांट में पानी जमा करने के लिए इंटकवेल चलाया.