नई दवा एवरमेक्टिन की खोज
स्वीडन के कैरोलिंसका इंस्टीट्यूट में नोबेल असेंबली ने सोमवार को घोषणा की कि कैंपबेल और ओमुरा को पुरस्कार का आधा दिया जाएगा। जबकि आधा यूयू को दिया जाएगा। कैंपबेल और ओमुरा ने राउंड वोर्म पैरासाइट्स से होने वाले संक्रमण के इलाज की नई दवा एवरमेक्टिन की खोज की। इससे रिवर ब्लाइंडनेस और लिम्फैटिक फिलारियासिस के मरीजों की संख्या में काफी कमी आई है। इसके अलावा यह अन्य पैरासाइटिक बीमारियों के इलाज में भी कारगर है। नोबेल असेंबली ने कहा कि यूयू ने मलेरिया के नए इलाज संबंधी खोज की।

मलेरिया के मरीजों की मृत्यु दर में कमी

उनकी नई दवा आर्टेमिसीनिन से मलेरिया के मरीजों की मृत्यु दर में कमी आई है। उनकी यह खोज चीन की पारंपरिक हर्बल दवाओं पर आधारित है। नोबेल असेंबली ने कहा, 'इन खोजों से मानवजाति को इन बीमारियों से लडऩे का शक्तिशाली साधन मिला है। हर साल लाखों लोग इन बीमारियों से पीडि़त होते हैं।' नोबेल विजेताओं को 80 लाख स्वीडिश क्रोनर यानी नौ लाख 60 हजार अमेरिकी डॉलर (करीब 6.26 करोड़ रुपये) की पुरस्कार राशि प्रदान की जाएगी।

inextlive from World News Desk

International News inextlive from World News Desk