क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: नामकुम थाना क्षेत्र के रांची-पुरुलिया मार्ग स्थित जोरार पेट्रोल पंप के समीप भाजपा नेता रतन गोप (40 वर्ष) की गोली मारकर हत्या मामले का खुलासा अबतक पुलिस नहीं कर पाई है. रतन गोप की हत्या उस समय की गई थी, जब वह अपने सात साल के पुत्र लक्की गोप को बिशप वेस्टकॉट स्कूल नामकुम में पहुंचाकर घर लौट रहे थे. इसी क्रम में जोरार पेट्रोल पंप के समीप लगी अपनी बाइक स्टार्ट करने से पहले ही बाइक सवार दो अपराधियों ने नाइन एमएम पिस्टल से दनादन तीन गोली मारी थी. एक गोली रतन की छाती, दूसरी गर्दन ओर तीसरी कनपट्टी पर मारी गई थी.

कई के खिलाफ एफआईआर

मामले में रतन के पिता सोहराई शंकर गोप के बयान पर राजेश नायक, अनिल राम, बादल पासवान और शकर लोहरा के खिलाफ नामकुम थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. इस मामले में अबतक पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की गई है. आरोपी आराम से घूम रहे हैं. इस संबंध में मृतक के भाई देवानंद गोप ने मुख्यमंत्री जनसंवाद में शिकायत दर्ज कराई है. रतन गोप की हत्या 9 जुलाई 2014 को हुई थी.

पैसे लेकर मामला दबाने का आरोप

परिजनों ने इस हत्याकांड में पैसे लेकर मामला दबाने का आरोप लगाया है. भाई ने कहा कि उस वक्त तत्कालीन डीएसपी निशा मुर्मू आरोपियों से मिलकर करोड़ों रुपए की बंदरबांट की थी.

जमीन का चल रहा था विवाद

मौके पर पहुंचे रतन के घरवालों ने बताया कि उनका पहले से जमीन विवाद राजेश नायक, अनिल राम, बादल पासवान तथा शंकर लोहरा से चल रहा है. रतन की हत्या के पीछे उन लोगों का ही हाथ है. बताया जाता है कि राजेश नायक खिजरी प्रखंड आजसू का पूर्व अध्यक्ष रह चुका है.

डेढ़ एकड़ जमीन का मामला

रतन गोप की जोरार में डेढ़ एकड़ पारिवारिक जमीन है. इसी जमीन को लेकर पिछले छह माह से रतन का राजेश नायक, अनिल राम, बादल पासवान तथा शंकर लोहरा से विवाद चल रहा था. बताया जाता है कि राजेश नायक, अनिल राम और बादल पासवान का दावा था कि उक्त जमीन उनलोगों ने खरीदी थी, लेकिन रतन उस पर कब्जा होने नहीं दे रहा था.