- गली और मोहल्लों में खुले होटल और रेस्टोरेंटों के विरुद्ध होगी कार्रवाई

- सांसद के विरोध के बाद एडीए को आना पड़ा था बैकफुट पर, अब फिर से जारी किए नोटिस

आगरा. मानकों को ताक पर रखकर काम करने वाले होटल और रेस्टोरेंट एक बार फिर एडीए के निशाने पर आ गए हैं. करीब दो सौ होटल और रेस्टोरेंटों को एडीए ने नोटिस थमाया है. हालांकि इनके विरुद्ध अभी तक कार्रवाई करने की एडीए हिम्मत नहीं जुटा पा रहा है. भाजपा नेता ऐसे लोगों का साथ भी दे रहे हैं.

विरोध के बाद बैकफुट पर आया था एडीए

गली गली और मोहल्ला मोहल्ला में होटल खुल गए हैं. घरों में ही रेस्टोरेंट चल रहे हैं. ऐसे रेस्टोरेंट और होटलों का कहीं पर भी कोई लेखा जोखा. मानकों के विपरीत कार्य कर रहे हैं. इनकी कोई गिनती नहीं है, लेकिन जो एडीए को पता चला है, ऐसे करीब दो सौ होटल व रेस्टोरेंटों को नोटिस दिए गए हैं. उनसे जवाब मांगा है.

नहीं कराए नक्शे पास

घरों में चल रहे होटल और रेस्टोरेंटों का किसी ने कोई नक्शा पास नहीं कराए हैं. ये मानकों के विपरीत चल रहे हैं. कभी भी कोई पड़ा हादसा हो सकता है. फायर से लेकर अन्य सुविधाएं नहीं हैं. कभी भी कोई भी बड़ा हादसा हो सकता है. पिछले दिनों लखनऊ में बड़ा हादसा हो गया था, इसके बाद यहां पर भी जिला प्रशासन हरकत में आ गया था. एडीए ने भी नोटिस जारी कर दिए थे. लेकिन स्थानीय सांसद और एससी आयोग के अध्यक्ष रामशंकर कठेरिया ने ऐसे होटल, मैरिज होम स्वामियों के पक्ष में उतर आए थे. उन्होंने कहा था कि एडीए ने जो नोटिस जारी किए हैं, उन्हें फाड़ दिया जाएगा. किसी के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं होने दी जाएगी. और हुआ भी ऐसा ही. सांसद के हस्तक्षेप के बाद एडीए अधिकारी बैकफुट पर आ गया.

एक भी नहीं है रजिस्टर्ड

शहर भर में जितने भी मैरिज होम हैं, उनमें से किसी का एडीए से नक्शा पास नहीं है. ऐसे मैरिज होम के विरुद्ध एडीए सख्त हुआ था, लेकिन सांसद के हस्तक्षेप के बाद एडीए ने अपने कदम पीछे खींच लिए थे.