- विवि-कॉलेजों में गुणात्मक सुधार और प्रतिस्पद्र्धा का वातावरण तैयार करने की कवायद

- राज्यपाल ने प्रधान सचिव को पुरस्कार नियमावली का प्रारूप तैयार करने के निर्देश दिए

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्: अब प्रत्येक वर्ष बिहार के विश्वविद्यालय, कॉलेज और छात्र को चांसलर अवार्ड से नवाजा जाएगा. इस बात की घोषणा रविवार को राज्यपाल सह कुलाधिपति लालजी टंडन ने की. इस बारे में राजभवन की ओर से मिली जानकारी के अनुसार इसका उदेश्य विश्वविद्यालयों में शिक्षा के गुणात्मक सुधार और प्रतिस्पद्र्धा का वातावरण तैयार करने के लिए प्रोत्साहित करना है. इसमें सर्वश्रेष्ठ कॉलेज, सर्वश्रेष्ठ शिक्षक और विद्यार्थी भी शामिल हैं. इन सभी को प्रत्येक वर्ष चांसलर अवार्ड देने का फैसला किया है. राज्यपाल लालजी टंडन ने पुरस्कार योजना को लागू करने के लिए प्रधान सचिव को नियमावली तैयार के निर्देश दिए हैं.

डिजिटाइजेशन पर जोर

राज्यपाल ने विवि को मैनेजमेंट इंफरमेशन सिस्टम भी शीघ्र विकसित करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने इस कार्य में प्रति-कुलपतियों की सहभागिता सुनिश्चित कराने को कहा है. उन्होंने राज्यपाल सचिवालय द्वारा जारी नियमों, अध्यादेशों तथा महत्वपूर्ण परिपत्र और पत्र के डिजिटाइजेशन कराते हुए राजभवन की वेबसाइट पर अपलोड करने के निर्देश भी दिए हैं. उन्होंने कहा इसका फायदा यह होगा कि सभी विश्वविद्यालयों या संबंधित संस्थानों या व्यक्तियों को यथा समय इसे देखने में सहूलियत होगी. साथ ही डिजिटाइजेशन का काम भी होता चलेगा.

भंवर पोखर में बनेगा बाल भवन

राज्यपाल के निर्देश पर राजभवन स्थित राजेंद्र मंडप में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन की रूपरेखा भी तैयार की जा रही है. सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन का उद्देश्य शिक्षकों एवं छात्रों में साहित्य और कला संगीत के प्रति रुझान विकसित करना है. इसके साथ ही सैनिक विधवाओं को आर्थिक सहायता और प्रशस्ति पत्र प्रदान करने और बाल कल्याण परिषद भंवर पोखर में बाल भवन के निर्माण के निर्देश भी राजभवन ने दिए हैं.