सीएम बोले, जितनी राशि की जरूरत होगी सरकार देगी

patna@inext.ci.in
PATNA : बिहार सरकार सरकारी मेडिकल कॉलेज एंड हास्पिटलों को स्वायत्तता देगी। वर्तमान में सरकारी मेडिकल कॉलेज यहां स्वास्थ्य विभाग के अधीन कार्यरत हैं। यह बातें राजधानी स्थित इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (आइजीआइएमएस) में गुरुवार को क्षेत्रीय कैंसर संस्थान के शिलान्यास समारोह में सीएम नीतीश कुमार ने कही। स्वास्थ्य क्षेत्र में बिहार में केवल आइजीआइएमएस ही स्वायत्त संस्थान है। सीएम ने कहा कि मेडिकल कॉलेजों को भी धीरे-धीरे स्वायत्त बनाना चाहते हैं। हम उन संस्थानों की मदद करेंगे। जिस संस्थान को जितने पैसे की जरूरत होगी हम देंगे। संस्थान परिसर में क्षेत्रीय कैंसर संस्थान के शिलान्यास के पूर्व मुख्यमंत्री ने आइजीआइएमएस कॉलेज के प्रशासनिक भवन का उद्घाटन भी किया। सीएम ने निर्देश दिया कि जो पुराने स्ट्रक्चर बहुत दिनों तक नहीं चल सकते उसे तोड़कर नए स्ट्रक्चर बनाए जाएं। स्वास्थ्य विभाग इस विषय को देखेगा। मुख्यमंत्री ने परिसर में 300 किलोवाट के सोलर रूफ टॉप पावर प्लांट का शिलान्यास भी किया। सौर ऊर्जा संयंत्र के निर्माण पर एक करोड़, छप्पन लाख रुपए खर्च होंगे।

2005 में बंद होने के कगार पर था

सीएम ने नवंबर 2005 की स्थितियों को याद करते हुए कहा कि जिस वक्त उन्होंने बिहार का कामकाज संभाला था उस वक्त यह संस्थान लगभग बंद होने के कगार पर था। आज स्थिति बदल गई है। लोग इलाज कराने के लिए यहां आना चाहते हैं। कैंसर के इलाज के लिए पटना में केवल महावीर कैंसर संस्थान था। उसकी भी राज्य सरकार ने मदद की है। अब इस परिसर में कैंसर संस्थान की स्थापना से इलाज के लिए लोगों को बिहार से बाहर जाने की मजबूरी नहीं होगी। सीएम ने आइजीआइएमएस के निदेशक प्रो। एनआर विश्वास को आश्वस्त किया कि वह निश्चिंत रहें सरकार उन्हें अभी छोड़ने वाली नहीं है।