-सीबीआइ ने किया मुआयना, अधिकारियों से ली जानकारी

patna@inextlive.co.in
PATNA: मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न मामले की जांच सीबीआइ ने शुरू कर दी है. इस मामले में सीबीआइ ने मुजफ्फरपुर महिला थाने में दर्ज प्राथमिकी संख्या 33/2018 के आधार पर कुल 11 अधिकारियों व कर्मियों को नामजद अभियुक्त बनाया है. इनमें एक अधिकारी को छोड़ बाकी के सभी दस नामजद अभियुक्तों की गिरफ्तारी पहले ही हो चुकी है. जबकि एक अभियुक्त दिलीप कुमार वर्मा अभी भी फरार है.

विभा कुमारी बनी आईओ

सूत्रों के अनुसार यौन हिंसा के मामले में सीबीआइ ने रविवार को जांच शुरू कर दी. प्राथमिकी दर्ज करने के बाद सीबीआइ की स्पेशल क्राइम ब्रांच की टीम जांच के लिए यहां पहुंची. सीलबंद लिफाफे में बंद प्राथमिकी की कॉपी विशेष सीबीआइ कोर्ट को सौंपी गई है.प्राथमिकी के संबंध में विशेष जानकारी नहीं मिल पाई है. हालांकि, इसमें बाल संरक्षण इकाई के अधिकारी, सीडब्ल्यूसी के पदाधिकारी व बालिका गृह के संरक्षक व कर्मचारियों सहित अन्य को आरोपित किया गया है. जांच के लिए एसपी के नेतृत्व में सीबीआइ की 12 सदस्यीय टीम गठित की गई है. पटना में तैनात महिला सीबीआइ इंस्पेक्टर विभा कुमारी को इसका अन्वेषण पदाधिकारी (आइओ) नियुक्त किया गया है. केंद्रीय जांच एजेंसी ने शनिवार को प्राथमिकी दर्ज की थी. इससे पहले सीबीआइ के अधिकारियों ने महिला थाने में दर्ज प्राथमिकी की कॉपी एवं अन्य जानकारी ली थी.

मामले की जांच सीबीआइ की स्पेशल क्राइम ब्रांच करेगी और पटना में तैनात महिला सीबीआइ इंस्पेक्टर विभा कुमारी को इसका अन्वेषण पदाधिकारी (आइओ) नियुक्त किया गया है. जांच की कमान अपने हाथों में लेते ही सीबीआइ की एक बड़ी टीम मुजफ्फरपुर के लिए रवाना हो गई. बता दें कि बिहार सरकार ने विगत 26 जुलाई को इस बहुचर्चित मामले की जांच सीबीआइ से कराने की अनुशंसा की थी. जब विपक्ष ने बिहार विधानमंडल समेत संसद में भी इसे जोरशोर से उठाया था, तब केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में बयान दिया था कि बिहार सरकार यदि इस मामले की सीबीआइ जांच की अनुशंसा करती है तो हम तत्काल जांच शुरू करा देंगे.

यूं सामने आया मामला

विगत 31 मई को जब ऑडिट रिपोर्ट सरकार को सौंपी गई तो उसमें बताया गया था कि मुजफ्फरपुर के साहू रोड स्थित बालिका गृह की कुल 44 लड़कियों में से 29 का यौन उत्पीड़न बालिका गृह संचालित करनेवाली एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति के संचालकों द्वारा ही किया जा रहा है.