श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्:अब लालू प्रसाद ने अपने परिवार पर आए चौतरफा संकट को टालने के लिए टोटके का सहारा लिया है. अगले दो दिन उनके परिवार के लिए निर्णायक साबित होने वाला है. 30 अगस्त को लालू को रांची हाईकोर्ट में समर्पण करना है तो 31 अगस्त को दिल्ली की विशेष अदालत में रेलवे टेंडर घोटाले में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की पेशी है. बुधवार को पटना से रांची और दिल्ली के लिए रवाना होने के पहले लालू परिवार ने अपने सरकारी आवास के मुख्य द्वार पर काला कपड़ा बांधा है. विदित हो कि लालू परिवार पिछले साल से विभिन्न तरह की परेशानियों से घिरा है. 27 जुलाई को बिहार की सत्ता से बेदखल होने के बाद से परिवार को लगातार अदालती चक्कर का भी सामना करना पड़ रहा है. शायद यही कारण है कि लालू परिवार ने टोटके का सहारा लिया है. 30 अगस्त को लालू की जमानत अवधि समाप्त हो रही है. इसी दिन उन्हें रांची हाईकोर्ट में समर्पण करना है. रेलवे टेंडर घोटाल में प्रवर्तन निदेशालय ने लालू प्रसाद, राबड़ी एवं तेजस्वी समेत 14 लोगों पर चार्जशीट दाखिल किया है. दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने सबको 31 अगस्त तक पेश होने का निर्देश दिया है. उसी दिन बेल या जेल पर फैसला आ सकता है. आरोप है कि लालू ने रेल मंत्री रहते हुए नियमों के बाहर कोचर बंधुओं को फायदा पहुंचाया.