-निर्वाचन आयुक्त ने दिया आदेश, ऑनलाइन आवेदन के लिए वोटर्स को करें अवेयर

-निर्वाचन सूची में जोड़ने-हटाने का कार्य समय पर करें पूरा

क्चढ्ढ॥न्क्त्रस्॥न्क्त्रढ्ढस्नस्न/क्कन्ञ्जहृन्: निर्वाचन सूची में नाम जोड़ने, हटाने या त्रुटि शुद्धिकरण के लिए आने वाले आवेदनों का समय पर निष्पादन करें. यह आदेश बुधवार को निर्वाचन आयुक्त अशोक लवासा ने नालंदा के हरदेव भवन में सभी निर्वाची पदाधिकारी, सहायक निर्वाची पदाधिकारी और बीएलओ को बैठक में दिया. उन्होंने कहा कि चाहे आवेदन ऑनलाइन हो या ऑफलाइन उसे प्राथमिकता से निपटाएं. सभी निर्वाची पदाधिकारी और सहायक निर्वाची पदाधिकारियों से कहा गया कि भारत निर्वाचन आयोग के नए सॉफ्टवेयर इआर ओ नेट का प्रयोग करें और अधिक से अधिक ऑनलाइन आवेदन के लिए लोगों को जागरूक करें.

दी जाएगी स्पेशल ट्रेनिंग

डीएम डॉक्टर त्यागराजन एसएम ने कहा कि नए सॉफ्टवेयर इआरओ नेट को और प्रभावी बनाने के लिए बीएलओ से लेकर निर्वाची पदाधिकारी तक सबको सघन ट्रे¨नग की व्यवस्था की जा रही है. सभी पदाधिकारियों से कहा गया कि ईआर ओ नेट के डेशबोर्ड को प्रत्येक दिन चेक करें एवं प्राप्त होने वाले ऑनलाइन आवेदनों का तत्क्षण निपटारा करें. उन्होंने कहा कि बीएलओ के स्तर से भी वेरिफिकेशन या अन्य कार्यों में कोई विलंब नहीं होना चाहिए. निर्वाचन आयुक्त ने कहा कि जिनके नाम दो जगह है अथवा जो वोटर मृत हो गए हैं, उनका प्राथमिकता के तौर पर निर्वाचक सूची से नाम हटाया जाए. पदाधिकारियों को विशेष ध्यान देने को कहा गया.

नए वोटर्स को जोड़ने पर बल

18 एवं 19 आयु वर्ग के नए वोटर्स जिनकी अनुमानित संख्या 73 हजार है का नाम निर्वाचक सूची में जोड़ने पर विशेष जोर दिया गया. ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा गया कि कोई भी योग्य मतदाता वोट देने से वंचित ना रहे. जनसंख्या एवं निर्वाचक सूची में अंकित मतदाताओं के बीच का वर्तमान अनुपात 62 है इसे और बढ़ाने को कहा गया. यह तभी संभव है जब सभी योग्य नागरिकों का नाम मतदाता सूची में दर्ज हो. जिला की वर्तमान जनसंख्या 34 लाख है, जिसमें मतदाताओं की संख्या 20 लाख 96 हजार है. निर्वाचन आयुक्त अशोक लवासा ने मतदाताओं के बीच व्यापक जागरूकता कार्यक्रम को सतत रूप से चलाने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि स्थानीय भाषा एवं प्रचलित परंपराओं तथा नवीन प्रयोगों का उपयोग कर लोगों को अपने मताधिकार का अधिकाधिक प्रयोग करने के लिए प्रेरित करें.

गलत नाम हटाना अधिकारियों की जिम्मेदारी

निर्वाचन उपायुक्त संदीप सक्सेना ने बताया कि निर्वाचक सूची से गलत व्यक्तियों का नाम हटाना सभी स्तर के अधिकारियों का अधिकार भी है और जिम्मेदारी भी. कहीं पर किसी मृत या अयोग्य लोग का नाम मतदाता सूची में है तो इसकच् सूचना उच्च अधिकारी को देनी चाहिए एवं उसे तुरंत हटाने की कार्रवाई की जानी चाहिए. बिहार के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अजय नायक ने कहा कि ईवीएम एवं वीवीपैट के बारे में भी व्यापक ट्रे¨नग कार्यक्रम चलाया जाएगा. उन्होंने सभी बीएलओ एवं निर्वाचित पदाधिकारियों को सजग रहकर अपने काम संपादन करने का निर्देश दिया.