-राज्यपाल सचिवालय में गवर्नर ने की अधिकारियों की बैठक

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्: राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा है कि विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों को भ्रष्टाचार मुक्तबनाते हुए यहां तत्परता से काम निपटाए जाएं. भ्रष्टाचार के विरुद्ध जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम होना चाहिए. उच्चशिक्षा में सुधार के लिए ऐसे नवाचारी (इनोवेटिव) कदम उठाए जाने चाहिए जिसे लोग याद रखें और पूरे देश के लिए वह नजीर बने. वह सोमवार को राजभवन के अधिकारियों के साथ राज्यपाल सचिवालय के क्रिया कलापों की जानकारी लेने के लिए पहली समीक्षा बैठक कर रहे थे.

अफसरों को देना होगा शत प्रतिशत परफार्मेस

गवर्नर ने कहा कि राजभवन की गरिमा बनाए रखने के लिए टीम भावना से काम होना चाहिए. विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में भी हर काम पूरी पारदर्शिता, ईमानदारी और निर्धारित समय पर हों ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए. उन्होंने कहा सभी अफसरों-कर्मियों को शत-प्रतिशत परफार्मेस देना होगा और नई शुरू होने वाली योजनाओं-कार्यक्रमों को सफलता के अंतिम पायदान तक पहुंचाना होगा. जो प्रशासनिक तंत्र की कमजोर कड़ी के रूप में चिन्हित होंगे उन पर आवश्यक कार्रवाई होगी जबकि बेहतर प्रदर्शन पर संरक्षण दिया जाएगा.

23 बिंदुओं पर यूनिवर्सिटी की गतिविधियों की होती है समीक्षा

राज्यपाल ने कहा विवेकानुदान के मामलों, राजभवन संचालित अन्य संगठनों के माध्यम से बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गो के कल्याण के लिए पात्र व्यक्तियों को उदारता पूर्वक सहायता दी जानी चाहिए. राज्यपाल सचिवालय के अधिकारियों ने इस दौरान उन्हें अपनी-अपनी शाखा की गतिविधियों से अवगत कराया. उन्हें जानकारी दी गई कि राज्यपाल सचिवालय में 23 बिन्दुओं पर विश्वविद्यालय की गतिविधियों की समीक्षा होती है. इसी क्रम में

उन्हें प्रत्येक महीने कुलपतियों की होने वाली बैठकों की जानकारी भी दी गई. बैठक में राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार ने उन्हें राजभवन की मासिक पत्रिका राजभवन संवाद का सितंबर अंक भेंट किया. बैठक में राज्यपाल, प्रधान सचिव के साथ ही अन्य शाखाओं के पदाधिकारी मौजूद रहे.