क्कन्ञ्जहृन्: बीएड में एडमिशन लेने के लिए कई फार्म भरने के झंझट से जल्द मुक्ति मिलने वाली है. अब राज्य के सभी यूनिवर्सिटी में बीएड में एडमिशन के लिए कॉमन टेस्ट लिया जाएगा. जिसके आयोजन की जिम्मेदारी किसी एक यूनिवर्सिटी को दी जाएगी. रोटेशन के आधार पर हर साल अलग-अलग यूनिवर्सिटी परीक्षा आयोजित करेगी. राज्यपाल सह कुलाधिपति सत्यपाल मलिक की अध्यक्षता में मंगलवार को कुलपतियों की बैठक में यह फैसला लिया गया.

ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाएंगे

बैठक में राज्यपाल ने बीएड में प्रवेश के लिए कॉमन एंटरेंस टेस्ट की आवश्यकता पर बल दिया. उन्होंने इसके लिए कुलपतियों और विशेषज्ञों की एक समिति गठित करने के निर्देश दिए. कॉमन एंटरेंस टेस्ट के लिए प्रत्येक यूनिवर्सिटी को रोटेशन के आधार पर परीक्षा आयोजित करने की जिम्मेदारी दी जाएगी. परीक्षा वस्तुनिष्ठ प्रश्नों पर आधारित होगी और इस परीक्षा में सफल अभ्यर्थी ही बीएड पाठ्यक्रम से जुड़े शिक्षण संस्थानों में निर्धारित सीटों पर नामांकन ले सकेंगे. राज्यपाल ने कमेटी को अपने सुझाव जल्द से जल्द राजभवन प्रशासन को देने के निर्देश दिए.

31 मार्च तक करा लें छात्र संघ चुनाव

बैठक में 31 मार्च 2018 तक सभी यूनिवर्सिटी में छात्र संघ के चुनाव हर हाल में खत्म करने पर सहमति बनी. कुलपतियों ने राज्यपाल को जानकारी दी कि चुनाव के लिए आवश्यक प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है. चुनाव निर्धारित समय में पूरे करा लिए जाएंगे.

क्या-क्या लिए गए फैसले

-मान्यता प्राप्त कॉलेज, बीएड और स्व वित्तीय पाठ्यक्रम के शिक्षकों के वेतन, मानदेय आधार लिंक बैंक खाते के जरिए कराने के निर्देश.

-ग‌र्ल्स कॉमन रूम, शौचालय निर्माण, परीक्षा भवन के लिए विवि के आवेदन पर राशि देने का आश्वासन.

-कॉलेजों-विश्वविद्यालयों में पीने के पानी के लिए आरओ प्यूरीफायर लगाने के निर्देश.

-कैंपस में स्वच्छता जांच के लिए विभागाध्यक्ष व प्रिंसिपल के नेतृत्व में सप्ताह में एक बार कैंपस का निरीक्षण किया जाए.

-अनुकंपा पर नौकरी देने के मामले में सरकारी आदेशों का पालन हो

-विवि-कॉलेजों में स्टेशनरी खरीद के लिए जेम प्रणाली अपनाने के निर्देश. इसके लिए तीन व्यक्तियों को प्रशिक्षित कर मास्टर ट्रेनर बनाया जाएगा.