-सीएम ने बिहार पत्रकार सम्मान पेंशन योजना आरंभ करने का किया एलान

patna@inext.co.in

PATNA: विधानसभा में बुधवार को सीएम नीतीश कुमार ने आरक्षण के लिए पुरानी रोस्टर प्रणाली लागू करने और जातीय आधार पर 2021 की जनगणना कराने की मांग की. जिसपर बीजेपी समेत विपक्षी दलों भी एकजुट दिखे. तय हुआ कि चालू सत्र में ही सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित करा केंद्र को भेजा जाएगा. विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने कहा कि वह जल्द ही तिथि तय कर देंगे. राज्यपाल के अभिभाषण पर सदन में पेश धन्यवाद प्रस्ताव पर बहस के दौरान नई रोस्टर प्रणाली की चर्चा राजद नेता अ?दुल बारी सिद्दीकी ने की. उन्होंने कहा कि 13 प्वाइंट की नई प्रणाली से पहले से आरक्षित वर्ग प्रभावित हो रहा है. पूर्व की तरह ही 200 प्वाइंट की रोस्टर प्रणाली लागू रहनी चाहिए जिसमें विभाग को नहीं, बल्कि विश्वविद्यालय को यूनिट मानकर आरक्षण का प्रावधान है. बहस में सरकार का जवाब पेश करते हुए सीएम ने कहा कि बिहार लोक सेवा आयोग की नियुक्तियों में रोस्टर की पुरानी व्यवस्था लागू रहेगी. उन्होंने कहा कि नई प्रणाली से बहुत नुकसान होगा. जातीय आधार पर जनगणना कराने की उनकी मांग को भी विपक्ष ने समर्थन दिया. .

60 साल के हर व्यक्ति को वृद्घावस्था पेंशन

बुधवार को सीएम नीतीश कुमार ने विस में घोषणा की कि अब प्रदेश में 60 साल या उससे अधिक के हर व्यक्ति को वृद्धावस्था पेंशन मिलेगा. बीपीएल सूची में उनका नाम दर्ज रहने की शर्त सरकार ने समाप्त कर दी है. वृद्धावस्था पेंशन के तहत हर बुजुर्ग को चार सौ रुपए दिए जाते हैं. पत्रकारों के लिए भी सीएम ने बिहार पत्रकार सम्मान पेंशन योजना पहली अप्रैल से आरंभ करने का एलान किया. प्रति माह छह हजार रुपए पेंशन के रूप में इन्हें मिलेंगे. वृद्धावस्था पेंशन का लाभ सरकारी कर्मियों को छोड़ 60 साल या उससे अधिक उम्र के लोगों को दिया जाएगा.