बच्चों का बढ़ेगा आत्मविश्वास
lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: मुस्लिम वक्फ एवं हज राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने मंगलवार को हज हाउस में आयोजित एक कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से कहा कि मदरसों में भी जल्द ड्रेस कोड लागू होगा। अभी यहां के छात्र कुर्ता-पाजामा ही पहनते हैं। लोगों ने इसे ही मदरसों का डे्रस कोड समझ लिया है। ड्रेस कोड होने से यहां के लड़कों में भी छात्र वाली भावना जागृत होगी। इससे उनमें आत्मविश्वास बढ़ेगा। यह बातें अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मोहसिन रजा ने हज हाउस में आयोजित एक दिवसीय ट्रेनिंग कैंप के उद्घाटन के दौरान मीडिया से कहंी। मोहसिन रजा ने कहा कि हम सबका साथ सबका विकास की बात करते हैं। पीएम मोदी ने कहा भी है कि एक हाथ में कुरान और एक हाथ में लैपटॉप होना चाहिए तभी समाज आगे बढ़ेगा। हम मुस्लिम समाज की भलाई और उसको मुख्यधारा से जोडऩे की बात कर रहे हैं।

खत्म हो अल्पसंख्यक का दर्जा
मीडिया से बात करते हुए मोहसिन ने कहा कि आज अगर देश में मुसलमानों की आबादी की बात करे तो देश में मुसलमानों की संख्या 20 करोड़ से ज्यादा है ऐसे में उनको अल्पसंख्यक कहना व अल्पसंख्यक का दर्जा देना सही नहीं है। उनको मिलने वाला अल्पसंख्यक का दर्जा खत्म होना चाहिए।

क्या बिना टोपी पहने सौहार्द कायम नहीं होता
हज आजमीनों को संबोधित करते हुए मोहसिन ने कहा कि कुछ लोग टोपी पहनने पर सियासत कर रहे हैं। क्या बिना टोपी के सौहार्द कायम नहीं हो सकता? टोपी का एहतेराम है, लेकिन हर कोई टोपी पहने यह जरूरी नहीं है।

सभी वर्गों के विकास से ही प्रदेश की तरक्की : लक्ष्मी नारायण
हज ट्रेनिंग कैंप के उद्घाटन के मौके पर बोलते हुए अल्पसंख्यक कल्याण व हज मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण ने कहा कि सबका साथ सबका विकास में सभी वर्गों के विकास से ही प्रदेश का विकास मुमकिन है। अल्पंसख्यक बाहुल्य इलाकों में शिक्षा, स्वास्थ्य पेयजल व कौशल विकास की अनेक परियोजनाएं मल्टीसेक्टोरल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत पूरी कई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार हज यात्रियों के लिए बेहतर से बेहतर इंतजाम करेगी। कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने कहा कि सबसे बड़ा धर्म गरीब व बेसहारा लोगों की सहायता करना है। हिंदू-मुस्लिम सहित सभी धर्म में एक ही बात कहीं गई है।  

हज यात्रियों को दी गई ट्रेनिंग
एक दिवसीय हज ट्रेनिंग कैंप में मास्टर ट्रेनर शरिक अल्वी और ट्रेनर एजाज अहमद व मुहम्मद शाहिद ने आजमीनों को प्रोजेक्टर के माध्यम से हज अरकान की बारीकियों के बारे में बताया। इस मौके पर अल्पंसख्यक कल्याण निदेशालय शेष मणि पांडेय, संयुक्त निदेशक एसएन पांडेय, अल्पंख्यक कल्याण निदेशालय के संयुक्त निदेशक आरपी सिंह, सेंट्रल हज कमेटी के सदस्य सैयद मुहम्मद मकसूद अशरफ, हज सचिव विनीत श्रीवास्तव आदि लोग मौजूद रहे।

अब छावनी में व्यवसायिक वाहनों को देना होगा 20 रुपये प्रति चक्कर टोल

कुछ एेसा है यूपी में योगी राज, 15 महीने में 2000 मुठभेड़ आैर 59 हुए ढेर

National News inextlive from India News Desk