-दियारा और तटीय इलाकों में फैला गंगा नदी का पानी, सुरक्षित स्थान की ओर पलायन करने लगे लोग

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

ष्ट॥न्क्कक्त्रन्/न्क्त्रन्: छपरा जिले में पहले से गंगा व सरयू का जलस्तर कुछ स्थिर था कि सोमवार को इंद्रपुरी बराज से तीन लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद तीनों नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ने लगा हैं. देखते-देखते सदर प्रखंड के दियारा के तीन पंचायत का मुख्यालय से संपर्क भंग हो गया. निचले इलाके में पहले ही पानी भर चुका था. सुबह का पानी आते हैं दियारा के अन्य क्षेत्रों में पानी फैल गया. लोग अपने घरों से समान व मवेशी लेकर पलायन करने लगे हैं, क्योंकि 2016 में आई विनाशकारी बाढ़ ने उनके सारे आशियाने माल मवेशी नष्ट हो गए थे. ऐसे में जिला प्रशासन द्वारा अभी तक एक मीनार की व्यवस्था नहीं की गई हैं. सदर प्रखंड के मुखिया संघ के अध्यक्ष सुरेंद्र राय ने बताया कि हम लोग महीनों से सदर अंचलाधिकारी से नाव की व्यवस्था के लिए बोल रहे हैं लेकिन अभी तक उनके द्वारा संबंधित क्षेत्रों में एक भी नाव मुहैया नहीं कराई गई. वैसे मैं और यहां के लोग भगवान भरोसे जी रहे हैं.

गंगा के जल स्तर में वृद्धि जारी

सोमवार की सुबह से गंगा के जलस्तर में फिर से वृद्धि जारी है. पीछले 24 घंटों से बक्सर में जलस्तर स्थिर रहने के बाद सोमवार अल सुबह तीन बजे से इसमें वृद्धि दर्ज की जा रही है. इस दौरान बढ़ने की रफ्तार एक सेमी प्रति घंटा मापी गई है. साथ ही जलस्तर में अभी वृद्धि होने का अनुमान है. केंद्रीय जल आयोग के कनीय अभियंता कन्हैया कुमार ने बताया कि सोमवार की सुबह से जलस्तर में आधा सेमी की रफ्तार से वृद्धि दर्ज की जाने लगी.