क्कन्ञ्जहृन्: अब बिना पैसा भरेगा 'कोरा कागज', यह पढ़कर आश्चर्य होगा. लेकिन ये सच है. आखिरकार बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष ने इस पर एक्शन लिया है. इंटर में जिन स्टूडेंट्स को ब्लैंक मार्कशीट मिले हैं उन्हें स्क्रूटनी में कोई अतिरिक्तशुल्क नहीं देना होगा. ज्ञात हो कि इंटर के रिजल्ट में सैकड़ों स्टूडेंट्स के नाम, स्कूल और रोल नम्बर के अलावा मार्कशीट ब्लैंक है. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट में 13 जून को मेरा रिजल्ट 'कोरा' कागज हेडिंग से खबर छपी. जिसपर बोर्ड अध्यक्ष ने यह निर्णय किया है.

ऐसे कर सकते हैं आवेदन

मेरा रिजल्ट 'कोरा' कागज पर बात करते हुए बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि स्क्रूटनी में दो तरह के स्टूडेंट्स आवेदन कर सकते हैं. एक वैसे स्टूडेंट्स जिन्हें इंटर में कम अंक मिले हैं और दूसरे वे जिनके मार्कशीट ब्लैंक है. कम अंक वाले स्टूडेंट्स को 70 रुपए फीस देना होगा. 'कोरा' कागज वाले स्टूडेंट्स को काई शुल्क देय नहीं है.

अबसेंटी का कोई प्रावधान नहीं

इंटर वार्षिक परीक्षा 2018 में राजधानी सहित सूबे के सैकड़ों स्टूडेंट्स ऐसे हैं जिन्हें रिजल्ट में न तो फेल किया गया और न ही पास बल्कि अबसेंट दिखाकर मार्कशीट के रूप में 'कोरा कागज' थमा दिया गया है. मार्कशीट में नाम, रोल नंबर और स्कूल के नाम के अलावा और कुछ भी अंकित नहीं है. ऐसे स्टूडेंट्स न तो कंपार्टमेंटल परीक्षा देने के योग्य हैं न ही स्क्रूटनी कराने के योग्य. इंटर में भले कोई स्टूडेंट्स दिल्ली में रहते हुए बिहार में टॉप करती हैं. लेकिन बिहार बोर्ड पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा. पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए बोर्ड अध्यक्ष आंनद किशोर ने बताया कि बिहार बोर्ड में 75 परसेंट अटेंडेंस का लोचा नहीं है. नियमावली में स्कॉलरशिप समेत अन्य लाभ के लिए 75 परसेंट अटेंडेंस अनिवार्य है.

अंदर पीसी और बाहर प्रदर्शन

एक तरफ बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आंनद किशोर इंटरमीडिएट परीक्षा में रिजल्ट को लेकर हुई गड़बड़ी पर पे्रस कांफ्रेंस कर सफाई दे रहे थे. वहीं दूसरी ओर ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फडेरेशन के स्टूडेंट्स बिहार बोर्ड के मेन गेट पर बोर्ड के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे. बुधवार को राजधानी की सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने सरकार और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. प्रदर्शन कर रहे स्टूडेंट्स ने बोर्ड पर आरोप लगाया कि इंटरमीडिएट परीक्षा में स्टूडेंट्स के साथ बोर्ड ने इंसाफ नहीं किया है. योग्य स्टूडेंट्स को फेल कर दिया गया है. इस दौरान पुलिस और स्टूडेंट्स के बीच तीखी नोक-झोक भी हुई. स्टूडेंट्स इंटर काउंसिल के सामने सड़क पर लेटकर प्रदर्शन करते रहे.