कानपुर। मोर पंख से दुर्भाग्य खत्म हो सकता है और सौभाग्य में बढ़ोतरी हो सकती है। आज हम आपको जन्माष्टमी के दिन मोर के पंख का एक उपाय बताने जा रहे हैं, जिसे करने से आपके पास पैसों की कोई कमी नहीं रहेगी।

मोर के पंख से करें ये सरल और कारगर उपाए
अगर आपके घर का दरवाजा वास्तुशास्त्र के अनुसार ठीक से नहीं बना है तो अपने घर के दरवाजे पर 3 मोर के पंखों को लगा दें। ऐसा करने से आपके घर से हर तरह की नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाएगी। जन्माष्टमी की रात को श्री कृष्ण के मुकुट पर मोर का पंख लगा दें। उसके बाद इनकी पूजा-अर्चना करें। ध्यान रहे अगर आपने अपने घर के मंदिर में श्री कृष्ण की मूर्ति को जागृत कर रखा है तभी ये उपाय करें। वरना किसी मंदिर में जाकर भी आप इस उपाय को कर सकते हैं। इस उपाय को करने से आपकी धन संबंधित सभी परेशानियां दूर हो जाएंगी।

जन्माष्टमी की रात करें मोर के पंखों वाला यह उपाय,धन धान्‍य की कमी जरूर होगी दूर

वास्तु और ज्योतिष में मोर पंख के उपाय बताए गए हैं। अगर घर में सही जगह पर सही तरीके से मोर पंख रखा जाए तो इससे शुभ फल प्राप्त किए जा सकते हैं। मोर पंख के कुछ खास उपाय...

पहला उपाय
अगर कोई जरूरी काम पूरा होते-होते रूक जाए या बहुत समय से कोई काम अटका हुआ हो तो अपने बेडरूम की पूर्व-दक्षिण दिशा में मोर पंख लगाएं। इससे रूके काम पूरे होने के योग बन सकते हैं। साथ ही अगर कहीं आपका पैसा अटका हुआ है तो वह भी वापस आने के योग बन सकते हैं।

दूसरा उपाय
घर या दुकान की दक्षिण-पूर्व दिशा में मोर पंख रखने से घर की नकारात्मकता दूर हो सकती है।

तीसरा उपाय
घर के मेन गेट पर तीन मोर पंख स्थापित करें। इन पंखों के नीचे भगवान श्रीगणेश की फोटो या छोटी प्रतिमा स्थापित करने से घर के सभी वास्तु दोष दूर हो सकते हैं।

जन्माष्टमी की रात करें मोर के पंखों वाला यह उपाय,धन धान्‍य की कमी जरूर होगी दूर

चौथा उपाय
जो व्यक्ति हमेशा अपने पास मोर पंख रखता है, उसे हर काम में सफलता मिल सकती है। साथ ही अपनी डायरी में मोर पंख रखना भी शुभ माना जाता है।

पांचवां उपाय
किसी भी शुभ दिन मोर पंख लेकर घर में ऐसी जगह रखें, जहां हर आने-जाने वाले की नजर उस पर पड़ें। इससे आपके घर किसी बुरी नजर का असर नहीं होगा।

- ज्योतिषाचार्य पंडित श्रीपति त्रिपाठी

जन्‍माष्‍टमी पर सिर्फ 11 पीली कौडियां करें अर्पित, श्री कृष्ण कर देंगे हर मनोकामना पूरी

जन्माष्टमी पर बन रहा सभी पापों को हरने वाला 'जयन्ती' योग, जानें व्रत-विधि

जानें कैसे करें जन्माष्टमी का व्रत, ये है पूजा-विधि