माता पिता की शादी के 14 साल बाद हुआ जन्म
परवीन बॉबी 70 के दशक की बेहद खूबसूरत अभिनेत्रियों में शुमार थीं। परवीन का जन्म 4 अप्रैल, 1949 में हुआ था। परवीन खूबसूरत तो थीं ही साथ-साथ उस समय की ग्लैमरस अभिनेत्री भी थीं। कहा जा सकता है कि ग्लैमसर शब्द उन्हीं से परिभाषित होता था। परवीन बॉबी अपनी माता-पिता की एकलौती संतान थीं। परवीन के पिता जूनागढ़ के नवाब के दीवान थे। जब परवीन के माता-पिता की शादी हुई तो उन्हें करीब 14 साल तक संतान का सुख नहीं मिला। बाद में 14 साल बाद परवीन ने जन्म लिया और माता-पिता की आस बनीं। परवीन अपने माता-पिता की एकलौती संतान थीं। हलांकी परवीन सिर्फ 10 साल की ही थीं जब उनके पिता का निधन हो गया था।
बर्थ डे : टाइम मैग्जीन के कवर से लेकर गुमनामी में मौत तक,ऐसा था परवीन बॉबी का सफर
इन तीन रिश्तों की वजह से चली गई थीं डिप्रेशन में
परवीन बॉबी इतनी खूबसूरत थीं कि उनके ऊपर हर कोई फिदा था। परवीन बॉबी के कई अफेयर्स रहे जिन्होंने उन्हें हर दिन बस डिप्रेशन में ही डाला। परवीन बॉबा का रिलशन सबसे पहले एक मॉडल और एक्टर कबीर बेदी के साथ रहा। इस रिश्ते की उस समय काफी चर्चा हुई पर ये रिलेशन ज्यादा दिन ये रिश्ता टिक नहीं सका और परवीन बॉबी डिप्रेशन में चली गईं। इसके बाद परवीन बॉबी को फिल्ममेकर महेश भट्ट का सहारा लेना पडा़। ये रिश्ता भी जल्द ही टूट गया जिसकी वजह से परवीन और ज्यादा डिप्रेशन में चली गईं।
बर्थ डे : टाइम मैग्जीन के कवर से लेकर गुमनामी में मौत तक,ऐसा था परवीन बॉबी का सफर
डिप्रेशन में जानें के बाद हुआ ये हाल
डायरेक्टर महेश भट्ट से रिलेशन टूटन के बाद परवीन बॉबी काफी ज्यादा सदमें में चली गईं और फिर उनका ठीक हो पाना बहुक मुश्किल हो गया। इस रिश्ते के टूटने के बाद जैसी उनकी जिंदगी की उम्मीदें ही खत्म हो गईं और वो बुझी सी रहने लगीं, बीमार रहने लगीं। डॉक्टरों के मुताबिक परवीन बॉबी मानसिक रूप से बीमार हो गईं। महेश भट्ट ने परवीन बॉबी के इलाज के लिए कई डॉक्टरों को अप्रोच किया पर वो ठीक नहीं हो पाईं। परवीन एक बार डिप्रेशन में गईं तो फिर कभी उससे उबर नहीं पाईं। बाद में परवीन को फिर प्यार हुआ। इस बार परवीन जग्गू कृष्णमूर्ति के प्यार में पडी़। धीरे धीरे परवीन की हालत भी ठीक होने लगी।
बर्थ डे : टाइम मैग्जीन के कवर से लेकर गुमनामी में मौत तक,ऐसा था परवीन बॉबी का सफर
परवीन बॉबी का निधन मिस्ट्री बन गया
उनकी जिंदगी में तो जैसे कभी प्यार लिखा ही नहीं था। परवीन इस रिश्ते के टूटने के बाद तो पूरी तरह डिप्रेशन की चपेट में आ चुकी थीं और बीमार रहने लगी थीं। दिमागी तौर पर परवीन बुरी तरह बीमार थीं। एक समय ऐसा आया कि धीरे से उनका स्वास्थ बिगड़ता ही चला गया। सभी डॉक्टरों ने जवाब दे दिया था। जिंदगी के आखिरी पलों में वो बिल्कुल अकेली रह गई थीं। बाद में साल 2005 में उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। परवीन की मौत कैसे हुई किसी को नहीं पता। उनके पडो़सियों के बताने पर पता चला था कि वो कमरे में कई दिनों बाद मृत पाई गईं।

बर्थ डे : कोरियोग्राफर प्रभुदेवा के खिलाफ पत्नी ने इस वजह से दर्ज कराई थी शिकायत, इन फिल्मों से मिली पहचान

बर्थ डे : अपने कैंसर पीडि़त पिता के साथ कपिल शर्मा ने कभी की थी ये गलत हरकत, बाद में हुआ पछतावा

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk