कानपुर। आज से 27 साल पहले 10 नवंबर को क्रिकेट मैदान पर साउथ अफ्रीकी क्रिकेट टीम की वापसी हुर्इ जिसने 21 साल तक बैन झेला। करीब दो दशक तक इंटरनेशनल क्रिकेट से दूर रही इस टीम के लिए दोबारा वापसी आसान नहीं थी। यही वजह है कि अपने पहले वनडे मैच में प्रोटीज को भारत के हाथों करारी हार झेलनी पड़ी थी। क्रिकइन्फो के मुताबिक,  10 नवंबर 1991 को साउथ अफ्रीकी टीम वनडे मैच खेलने भारत आर्इ थी। इंटरनेशनल क्रिकेट में दूसरी पारी की शुरुआत कर रही अफ्रीकी टीम को तीन विकेट से करारी हार मिली।  यह मैच कोलकाता के र्इडन गाॅर्डन में खेला गया था। जब पूरी अफ्रीकी टीम मैदान पर उतरी तो हर एक खिलाड़ी भावुक हो गया था।
जब 21 साल के लिए पूरी क्रिकेट टीम कर दी गर्इ थी बैन,आज के दिन लौटी थी मैदान पर
क्यों लगा था 21 साल का बैन
साउथ अफ्रीका को 1889 में अंतर्राष्‍ट्रीय क्रिकेट टीम का दर्जा मिला था। उसके बाद अफ्रीकी टीम ने सालों तक आॅस्ट्रेलिया आैर इंग्लैंड के साथ मैच खेला।फिर 70 के दशक में एेसी घटना घटी जिसने पूरी अफ्रीकी टीम को क्रिकेट से दूर कर दिया था। अफ्रीका के इंटरनेशनल क्रिकेट से बाहर होने की वजह थी उसकी सरकार की मनमानी नीतियां। दक्षिण अफ्रीका सरकार की रंगभेद नीति में कुछ ऐसे नियम बनाए गए थे जिसने आईसीसी को दुविधा में डाल दिया था। सरकार के नियमों के मुताबिक उनकी देश की टीम को श्वेत देशों (इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड) के खिलाफ ही खेलने की इजाजत थी। साथ ही यह शर्त थी कि विपक्षी टीम में श्वेत खिलाड़ी ही खेलेंगे। एेसे में आर्इसीसी को साउथ अफ्रीका क्रिकेट पर बैन लगाना पड़ा।
जब 21 साल के लिए पूरी क्रिकेट टीम कर दी गर्इ थी बैन,आज के दिन लौटी थी मैदान पर
1992 में खेलने को मिला पहला वर्ल्ड कप

आईसीसी के द्वारा दक्षिण अफ्रीका टीम को निलंबित करने के बाद कई बड़े-बड़े दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों का भविष्य चौपट हो गया और कई क्रिकेटर्स का कॅरियर इसी इंतजार में खत्म हो गया कि कब दक्षिण अफ्रीका टीम को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी मिलेगी। आखिरकार, पूरे 21 साल के बाद दक्षिण अफ्रीका में बदलाव आया और रंगभेद की नीति को खत्म किया गया। इसके बाद अफ्रीका ने 1991 में पहला वनडे खेला आैर फिर 1992 में पहली बार वर्ल्ड कप में हिस्सा लिया।

मैच के दौरान हुआ हादसा, बाउंसर लगने से खिलाड़ी पहुंच गया अस्पताल

Cricket News inextlive from Cricket News Desk