BARIELLY: सीबीगंज में सिलेंडर में ऑक्सीजन भरने वाली फैक्ट्री में वेडनसडे शाम को धमाका हो गया। धमाका इतना तेज था कि वहां काम कर रहे एक मजदूर के शरीर के चिथड़े उड़ गए। फैक्ट्री परिसर की 30 फुट ऊँची छत तेज धमाके के कारण उड़ गई। घटना के बाद मालिक फैक्ट्री बंद कर भाग गया। पुलिस जांच पड़ताल कर रही है।

पांच महीने से कर रहे थे नौकरी
घटना परसाखेड़ा औधोगिक क्षेत्र के रोड नंबर तीन पर स्थित बीएम इंडस्ट्रीज में हुई। फैक्ट्री में सिलेंडरों में ऑक्सीजन (गैस) भरने का काम किया जाता है। रोज की तरह फैक्ट्री में काम चल रहा था। तभी शाम करीब 6.50 बजे एक सिलेंडर में तेज धमाका हुआ। इसमें कर्मचारी शैलेंद्र पांडेय के चिथड़े उड़ गए। शैलेंद्र पांडेय मूलरूप से रेती नई बस्ती शाहजहांपुर के रहने वाले थे। वर्तमान में वह नदोसी गांव में रह रहे थे। घटना के बाद मालिक नितिन खंडेलवाल फैक्ट्री बंद कर भाग गया। देर शाम जब शैलेंद्र अपने घर नहीं पहुंचे तो उनकी पत्‍‌नी आरती ने फैक्ट्री में फोन किया। तब उन्हें इस घटना की जानकारी हुई। फैक्ट्री प्रबंधन ने शाम की घटना को देर रात तक छिपाए रखा। इससे कर्मचारियों में आक्रोश फैल गया। शैलेंद्र पांच महीने पहले ही फैक्ट्री में काम करने आए थे। बताते हैं कि फैक्ट्री में अंदर 30 फीट ऊंचा गोदाम बना हुआ है। इसमें ऑक्सीजन सिलेंडर रखे रहते हैं। धमाके के बाद गोदाम में लगी टीन की छत उड़ गई। धमाका इतना तेज था कि उसकी आवाज काफी दूर तक सुनाई पड़ी। परसाखेड़ा चौकी इंचार्ज दानवीर सिंह ने मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल शुरू कर दी। इधर पति की मौत के बाद पत्‍‌नी का रो-रोकर बुरा हाल है। तीन वर्ष पूर्व ही शैलेंद्र और आरती का विवाह हुआ था। आरती इस समय गर्भवती हैं।

मामले में अभी तक कोई तहरीर थाने में नहीं दी गई है। तहरीर मिलने पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

- राजकुमार भारद्वाज, इंस्पेक्टर सीबीगंज