-एनजीटी के आदेश के बाद नगर आयुक्त ने गंगा में ठोस अपशिष्ट गिरने से रोकने के लिए जारी किए निर्देश

kanpur@inext.co.in

KANPUR : नालों के जरिए गंगा में जा रहा ठोस कूड़ा चिंता का सबब बन गया है. इससे गंगा में जीव-जंतुओं के हानिकारक होने के साथ ही समुद्र में भी बढ़ते प्रदूषण का पर्याय बनता जा रहा है. इस मामले में एनजीटी ने गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कड़े निर्देश जारी किए हैं. आदेश के मुताबिक हरिद्वार से उन्नाव तक 86 बड़े नाले गंगा में गिर रहे हैं, जिनसे रोजाना टनों ठोस कूड़ा गंगा में गिर रहा है. इससे गंगा और इसकी तली में कूड़े की मात्रा बढ़ती जा रही है. आदेश के क्रम में नगर आयुक्त संतोष कुमार शर्मा ने चीफ इंजीनियर मनीष कुमार सिंह को निर्देश दिए हैं कि कानपुर में गिर रहे सभी नालों पर जाली लगाई जाए, जिससे ठोस कूड़े को गंगा में गिरने से रोका जा सके. बताते चले कि नगर निगम की सीमा के अंतर्गत 16 नाले गंगा में और 5 नाले पांडु नदी में गिर रहे हैं. इसके साथ ही एक-एक कर्मचारी की भी नियुक्ति की जाएगी. तत्काल प्रभाव से सभी नालों के मुहाने पर जालियां लगाई जाएंगी. 1 महीने के अंदर जाली लगाने के कार्य को पूरा किया जाना है.