patna@inext.co.in

ARA/PATNA : नौकरी लगाने के नाम पर ठगी करने वाले गैंग के झांसे में आकर जम्मू-कश्मीर का एक युवक मो. परवेज को हवालात की हवा खानी पड़ गई. आरा शहर में राहुल बनकर रहने वाले जम्मू-कश्मीर के युवक मो. परवेज को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर उसकी गतिविधियों का पता लगा रही है. इसके लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस से संपर्क कर उसकी पारिवारिक हिस्ट्री को खंगाला जा रहा है. हालांकि अभी तक उसके आपराधिक पृष्ठभूमि का पता नहीं चल सका है. शुरुआती जांच में यह बात सामने आ रही है कि जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर निवासी मो. परवेज रेलवे में नौकरी लगाने का झांसा देकर ठगी करने वाले गैंग का शिकार होकर आरा चला आया था. पुलिस उसके पास से बरामद शैक्षणिक प्रमाण पत्रों से लेकर अन्य दस्तावेजों का सत्यापन कर रही है. मो. परवेज को मौलाबाग-पकड़ी सिविल लाइन इलाके से पकड़ा गया है. बताया गया कि मौलाबाग-पकड़ी सिविल लाइन मुहल्ला का निवासी मुन्ना कुमार पेशे से प्रोपर्टी डीलर है. उनके आवास पर 29 जनवरी को युवक आया था, जो अपना नाम राहुल तथा खुद को रोहतास जिला का बताकर किराए पर कमरा लिया था.

ऐसे हुआ मामले का खुलासा

एक फरवरी से रहने की बात तय हुई थी. मकान मालिक को तब शक हुआ जब एक दूसरा लड़का रहने लगा. पूछने पर उसने भी अपना नाम राहुल बताया. उन्होंने नवादा थाना पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने संदिग्ध को हिरासत में ले लिया. पूछताछ में उसने अपना नाम मो. परवेज और पिता का नाम मो. अब्दुल रशीद एवं श्रीनगर का निवासी बताया. मो. परवेज ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के गांधरबल जिला निवासी मो. शफी मिले थे. उसने रेलवे में नौकरी के लिए दो लाख रुपए लिए थे. फिर दिल्ली में देवेन्द्र से मिलने को कहा गया. उसने धनबाद में ज्वॉइन करने को कहा. बाद में आरा में जाकर ज्वाइन करने को कहा गया था.