कैट की ओर से जीएसटी एक वर्ष, क्या खोया-क्या पाया विषय पर हुई चर्चा

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: जीएसटी लागू हुए एक साल होने जा रहा है, लेकिन व्यापारी अभी परेशान हैं. जीएसटी का पहला वर्ष व्यापारियों के लिए कैसा रहा? व्यापारियों ने क्या खाया-क्या पाया, इस पर चर्चा के लिए कंफेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स की ओर से रविवार को सृजन हॉस्पिटल सभागार में सेमिनार आयोजित किया गया.

..अक्सर दगा दे जाता है पोर्टल

सेमिनार में केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं कस्टम विभाग के कमिश्नर पीके तिवारी, एडिशनल कमिश्नर राज्य कर विभाग के ज्वाइंट कमिश्नर कारपोरेट एके श्रीवास्तव, डिप्टी कमिश्नर प्रशासन एके गौतम मौजूद रहे. जिन्होंने व्यापारियों के सवालों का जवाब दिया. कैट के प्रदेश उपाध्यक्ष विभु अग्रवाल ने कहा कि जीएसटी लागू करते समय एक देश एक कर की बात कही गई थी. फिर दो अलग-अलग प्राधिकरण क्यों? राजेश गोस्वामी ने कहा कि जीएसटी कानून से ज्यादा समस्या जीएसटीएन पोर्टल की है. ज्यादातर व्यापारियों की शिकायत थी कि जीएसटीएन पोर्टल अक्सर दगा दे जाता है. पीयूष गोयल ने कहा कि सरकार को जीएसटी में पांच की जगह तीन कर की दर करनी चाहिए. अशोक अग्रवाल ने कहा कि सरकार ट्रांसपोर्ट भाड़े पर से रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म को तुरंत हटाए.

व्यापारियों की मांग और सुझाव.

-18 और 28 को समाप्त कर टैक्स की तीन दर 00, आठ प्रतिशत और 12 प्रतिशत को ही लागू किया जाए.

-रोटी, कपड़ा और मकान से संबंधित सभी वस्तुओं को पांच प्रतिशत की दर में लाना चाहिए.

-यदि रिटर्न भरते समय विक्रेता से चूक हुई है या उसने टैक्स नहीं भरा है तो उसका खामियाजा क्रेता को नहीं दिया जाना चाहिए.

-कम्प्यूटर द्वारा जनित इनवाइस पर अधिकृत व्यक्ति के हस्ताक्षर की अनिवार्यता समाप्त होनी चाहिए.

-अग्रिम प्राप्त किए गए भुगतान पर टैक्स की व्यवस्था समाप्त की जाए.

-समाधान योजना की सीमा 1.5 करोड़ से बढ़ाकर तीन करोड़ रुपए किया जाए. साथ ही कर की दर एक प्रतिशत से आधा प्रतिशत किया जाए.

-जीएसटीएन पोर्टल पर कैश लेजर को कैश वॉलेट में परिवर्तित किया जाए.

-ई-वे बिल के पार्ट-बी के भरा न होने पर होने वाली दंडात्मक कार्रवाई को समाप्त किया जाए.

-व्यापारियों को ट्रान-वन भरने का एक और मौका दिया जाए.

उपस्थित रहे कई लोग

इस अवसर पर कैट के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र गोयल भी उपस्थित रहे. सेमिनार की अध्यक्षता डा. बीबी अग्रवाल ने व संचालन मनोज अग्रवाल ने किया. इस दौरान अजय अग्रवाल, संजय जैन, आशुतोष गोयल, राजेश गोस्वामी, राजेश अग्रवाल, संदीप अग्रवाल, अजय अग्रवाल, अशोक ब्रिटानिया, तरंग अग्रवाल, संजय जैन, नीलेश अग्रवाल, विनय साहू, पुनीत अग्रवाल, संजीव अग्रवाल आदि मौजूद रहे.