श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्: प्रदेश के सभी बीएड कॉलेज और संबद्ध कॉलेजों का जल्द ही निरीक्षण शुरू होगा. देखा जाएगा कि कॉलेजों की आधारभूत संरचना कैसी है, शिक्षक-छात्र उपस्थिति सही है अथवा नहीं, पुस्तकालय और प्रयोगशाला की स्थिति कैसी है. यदि गड़बड़ पाई गई तो निरीक्षकों को एक्शन लेना होगा और राजभवन को अपनी एक्शन रिपोर्ट से अवगत कराना होगा. यह फैसला गुरुवार को राजभवन में विश्वविद्यालय निरीक्षकों की बैठक में लिया गया. बैठक की अध्यक्षता राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह ने की. सिंह ने विवि निरीक्षकों से कहा कि निर्धारित कैलेंडर के मुताबिक कॉलेजों को प्रस्वीकृति देने के मामलों का निपटारा किया जाना चाहिए और संबद्धता के मामलों को समय पर विभाग को भेजना चाहिए. राज्यपाल चाहते हैं कि प्रस्वीकृति के मामले पूरी पारदर्शिता और नियमों के अनुसार निपटाए जाएं. जो कॉलेज निर्धारित शर्तो को पूरा करते हैं वैसे कॉलेजों को ही संबद्धता दी जाए. विवेक सिंह ने कहा कि कॉलेजों में गंभीरता पूर्वक, पारदर्शी निरीक्षण की परंपरा हर हाल में बहाल रहनी चाहिए. कुलपतियों के नेतृत्व में कुलसचिव, परीक्षा नियंत्रक, वित्तीय परामर्शी, बीएड पोस्ट एप और कॉलेज रिपोर्टिग के नोडल अफसर टीम भावना के साथ यह काम करे.