आगामी कुंभ मेला के दौरान पर्यटन विभाग ने पैकेज टूर का दिया खजाना

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: संगम की रेती पर अगले वर्ष आयोजित होने जा रहे कुंभ मेला के लिए पर्यटन विभाग देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों के लिए टूर एंड ट्रैवेल्स का गिफ्ट देने का निर्णय लिया है. इलाहाबाद से चित्रकूट के धार्मिक स्थलों का भ्रमण करना हो या वाराणसी के काशी विश्वनाथ व सारनाथ या फिर खजुराहो की विश्व प्रसिद्ध मूर्तियों का दीदार करना हो. हर धार्मिक व ऐतिहासिक स्थलों के लिए खास पैकेज दिया जाएगा. यह सुविधा सिर्फ कुंभ मेला अवधि के दौरान ही पर्यटकों को उपलब्ध कराई जाएगी.

इलाहाबाद से चित्रकूट

एक दिन का पैकेज : मॉडल ऑफ ट्रैवेल्स - तीन लोग एसी इंडिगो कार और चार लोग एसी इनोवा कार, किराया 5119 रुपये. इसके अन्तर्गत गुप्त गोदावरी, माता अनुसूया, राम दरबार की यात्रा, कामता नाथ व हनुमानगढ़ी की यात्रा.

इलाहाबाद से वाराणसी व सारनाथ

दो दिन व एक नाइट : मॉडल ऑफ ट्रैवेल्स - तीन लोग एसी इंडिगो कार और चार लोग एसी इनोवा कार, किराया 10710 रुपये. इसके अन्तर्गत दुर्गा मंदिर मानस मंदिर, संकटमोचन मंदिर, बीएचयू, गंगा आरती, बाबा विश्वनाथ व सारनाथ का भ्रमण.

इलाहाबाद से विन्ध्याचल व सीतामढ़ी

एक दिन का पैकेज : मॉडल ऑफ ट्रैवेल्स - तीन लोग एसी इंडिगो कार, चार लोग एसी इनोवा कार, किराया 2914 रुपये. इस पैकेज के तहत पर्यटकों को विन्ध्याचल धाम, अष्टभुजी देवी, काली खोह और वापसी में सीतामढ़ी का भ्रमण.

इलाहाबाद से चित्रकूट वाय खजुराहो

दो दिन और एक नाइट का पैकेज : मॉडल ऑफ ट्रैवेल्स - तीन लोग एसी इंडिगो कार, चार लोग एसी इनोवा कार, किराया 15015 रुपये. पैकेज के तहत लंच व डिनर की सुविधा भी दी जाएगी.

आनलाइन भी करा सकते हैं बुकिंग

पर्यटन विभाग ने कुंभ मेला के दौरान धार्मिक स्थलों के भ्रमण के लिए पैकेज के साथ ही बुकिंग भी करना शुरू कर दिया है. इसके लिए विभाग की यूपी टूरिज्म वेबसाइट पर जाकर पर्यटकों को बुकिंग कराना होगा. इसके अलावा सिविल लाइंस स्थित क्षेत्रीय पर्यटन कार्यालय में भी जाकर बुकिंग कराई जा सकती है.

कुंभ के दौरान अनेकों ऐसे पर्यटक आते हैं जिन्हें धार्मिक स्थलों पर भ्रमण का शौक होता है. इसीलिए शासन के निर्देश पर वाराणसी, सारनाथ, चित्रकूट व खजुराहो के लिए स्पेशल टूर पैकेज देने की योजना बनाई गई है. इसके लिए आनलाइन और आफलाइन दोनों व्यवस्था के अन्तर्गत पर्यटक बुकिंग करा सकते हैं.

दिनेश कुमार, उप निदेशक, पर्यटन विभाग