- इमरजेंसी से भर्ती होने वाले मरीजों से नहीं लिया जाएगा कोई शुल्क

- लंबी लाइन से मिलेगा छुटकारा, सीएमएस ने जारी किया आदेश

- मरीजों को मिलेगी बड़ी राहत

350 रुपए का भर्ती शुल्क अभी तक लिया जाता था

50 रुपए होती थी रजिस्ट्रेशन फीस

01 रुपए का पर्चा अलग से बनवाना पड़ता था

401 रुपए कुल मिलाकर भर्ती कराने के लिए खर्च होते थे

300 मरीज रोजाना पहुंचते हैं ट्रॉमा सेंटर

150 मरीज किए जाते हैं डेली भर्ती

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW : किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू)) के ट्रॉमा सेंटर में आने वाले मरीजों को अब भर्ती के लिए कोई फीस नहीं जमा करनी होगी. गुरुवार से बीपीएल सहित सभी श्रेणी के मरीजों की भर्ती नि:शुल्क होगी. केजीएमयू के सीएमएस डॉ. एसएन शंखवार ने इसके आदेश जारी कर दिए हैं. इससे मरीजों को इमरजेंसी में पहुंचते ही जल्द इलाज शुरू होने का रास्ता साफ हो गया है.

परचा बनवाने में होती है दिक्कत

ट्रॉमा सेंटर में पर्चा बनवाने और एडमिशन फीस जमा करने के लिए तीमारदारों को लंबी लाइन लगानी पड़ती है. जिससे कई बार मरीजों को समय पर ट्रीटमेंट नहीं मिल पाता है और उनकी मौत हो जाती है. नई व्यवस्था लागू होने से ऐसी घटनाएं बंद हो जाएंगी. हाल ही में कैंसर पीडि़त मरीज का पर्चा समय पर न बन पाने से मौत हो गई थी. इस घटना के बाद केजीएमयू प्रशासन ने भर्ती शुल्क हटाने का निर्णय लिया है. अभी यहां मरीजों से 350 रुपए भर्ती शुल्क लिया जाता है. साथ में 50 रुपए रजिस्ट्रेशन और एक रुपया परचा बनाने का लगता है. लेकिन अब इमरजेंसी काउंटर से ही मरीज का नाम पता नोट करके परचा जारी कर दिया जाएगा. उसके लाइन में लगकर भर्ती शुल्क जमा करने और परचा बनवाने की जरुरत नहीं पड़ेगी.

रोजाना 150 मरीज भर्ती

सीएमएस डॉ. एसएन शंखवार ने बताया कि ट्रॉमा में अब मरीजों से कोई भी फीस नहीं ली जाएगी. इसके आदेश जारी कर दिए गए हैं. ट्रॉमा में वर्तमान में करीब 250 से 300 मरीज रोजाना पहुंचते हैं. जिनमें से करीब 110 से 150 मरीजों को भर्ती किया जाता है. अब इन सभी मरीजों की भर्ती नि:शुल्क होगी.

सिर्फ इमरजेंसी के मरीजों को सुविधा

डॉ. एसएन शंखवार ने बताया कि ट्रॉमा में नि:शुल्क भर्ती की सुविधा केवल कैजुअल्टी के द्वारा भर्ती होने वाले मरीजों को ही होगी. पहले मरीज इमरजेंसी में पहुंचेगा वहां एंट्री के बाद उसकी भर्ती नि:शुल्क होगी. ट्रॉमा सेंटर के डॉक्टर्स के अनुसार ओपीडी से मरीज भर्ती के लिए भेजे गए मरीजों को नि:शुल्क एडमिशन की सुविधा नही होगी.

मुफ्त इलाज को अभी इंतजार

केजीएमयू प्रशासन का कहना है कि ट्रॉमा सेंटर में आने वाले सभी मरीजों को 24 घंटे फ्री ट्रीटमेंट देने के लिए अभी बजट का इंतजार है. जैसे ही बजट मिलेगा, यह सुविधा शुरू हो जाएगी. केजीएमयू के इसके लिए शासन को प्रस्ताव भेजा है. हरी झंडी मिलने पर इसे भी शुरू किया जा सकता है.