इस्लामाबाद (पीटीआई)। पाकिस्तानी सेना ने भारत के उन दावों को खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया था कि पाकिस्तान ने भारतीय लड़ाकू विमान पर हमला करने के लिए अमेरिका में बने एफ-16 फाइटर प्लेन का इस्तेमाल किया था। उन्होंने कहा कि भारतीय लड़ाकू विमानों को गिराने के लिए एफ-16 फाइटर प्लेन नहीं बल्कि जेएफ-17 थंडर लड़ाकू विमान का इस्तेमाल किया गया था। पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद (JeM) आतंकी संगठन द्वारा 14 फरवरी को पुलवामा में हमला किये जाने के बाद भारतीय वायु सेना के साथ हवाई युद्ध का जिक्र करते हुए, पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा कि भारतीय लड़ाकू विमानों ने 26 फरवरी को पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया और वहां बम गिराकर बुनियादी ढांचे को भारी नुकसान पहुंचाया, हालांकि इस हमले से किसी के जान का नुकसान नहीं हुआ।

आत्मरक्षा के लिए पाकिस्तान कर सकता है एफ-16 का इस्तेमाल

गफूर ने रूसी समाचार एजेंसी स्पुतनिक इंटरनेशनल को बताया, 'जवाबी कार्रवाई के रूप में हमने अगले दिन भारतीय लड़ाकू विमानों को निशाना बनाने और उसे गिराने के लिए जेएफ -17 फाइटर प्लेन का इस्तेमाल किया था। अब पाकिस्तान और अमेरिका के बीच यह देखना बाकी है कि एफ -16 के इस्तेमाल को लेकर एमओयू का पालन किया गया है या नहीं।' उन्होंने कहा कि इस्लामाबाद वाशिंगटन के साथ अपने JF-17 के उपयोग पर चर्चा कर रहा है। इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि जायज आत्मरक्षा की बात आती है तो पाकिस्तान इसे आवश्यक समझेगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान केवल भारत को बताना चाहता है कि वह वापस हमला करने की क्षमता रखता है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के पास ऑपरेशन के फुटेज हैं।

अमेरिका की फटकार के बाद पाकिस्तान ने जैश के आतंकियों पर कार्रवाई करने का किया वादा

International News inextlive from World News Desk