इस्लामाबाद (पीटीआई)। पाकिस्तान के विमानन सचिव शाहरुख नुसरत ने अपनी संसदीय समिति को बताया है कि भारतीय अधिकारियों को इस बात की जानकारी दे गई है कि जब तक भारत सीमा के नजदीक एयरबेसों से अपने फाइटर जेटों को नहीं हटाएगा तब तक पाकिस्तान में एयरस्पेस को खोला नहीं जायेगा। बता दें कि भारतीय वायु सेना ने 26 फरवरी को पुलवामा हमले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी प्रशिक्षण शिविर को पूरी तरह से तभ कर दिया था, इस घटन के बाद से पाकिस्तान ने अपना हवाई क्षेत्र पूरी तरह से बंद कर दिया है।

पाकिस्तान ने जाहिर की चिंताएं
उन्होंने कमिटी से बताया, 'भारत सरकार ने हमसे कमर्शियल उड़ानों के लिए हवाई क्षेत्र को खोलने के साथ वहां से प्रतिबंध हटाने का आग्रह किया। इसपर हमने अपनी चिंताएं जाहिर कीं और कहा कि भारत को भी सीमा के नजदीक एयरबेसों से अपने फाइटर जेटों को हटा लेना चाहिए।' बता दें कि प्रतिबंधों के बाद से कमर्शियल फ्लाइट्स को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा सीएए के अधिकारी ने भारत के इस दावे का भी खंडन किया कि दिल्ली ने पाकिस्तान के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोला है। शाहरुख ने कहा, 'भारतीय हवाई क्षेत्र के बंद होने के बाद से थाईलैंड से आने वाली पाकिस्तानी फ्लाइटों की स्थिति अब तक नहीं सुधरी है। मलेशिया के लिए पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) की उड़ानें भी निलंबित हैं।'

प्रधानमंत्री बनने के बाद पहली बार अमेरिका के दौरे पर जायेंगे पीएम इमरान खान, संबंध सुधारने की करेंगे कोशिश

पीएम मोदी की फ्लाइट को पाकिस्तान ने दी थी अपने एयरस्पेस से ले जाने की इजाजत
पिछले महीने पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वीवीआईपी फ्लाइट को अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की विशेष अनुमति दी थी। तब पीएम मोदी किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए जा रहे था। हालांकि, प्रधानमंत्री मोदी के वीवीआईपी विमान ने बिश्केक जाने के लिए पाकिस्तान के एयरस्पेस का इस्तेमाल नहीं किया।

International News inextlive from World News Desk