lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: इलेक्ट्रिक बसों के पैसेंजर्स का सफर सुहाना होने के साथ सुरक्षित भी होगा। इन बसों में लगे पैनिक बटन को दबाते ही पुलिस के पास मदद की जानकारी पहुंच जाएगी। वहीं बसों के अंदर का दृश्य भी हर समय सुरक्षा में तैनात कर्मचारियों की आंखों के सामने रहेगा। दरअसल, सिटी बस प्रबंधन और नगरीय परिवहन निदेशालय बसों में लगे पैनिक बटन को डायल 100 से लिंक कराने की तैयारी में है। अब तक सिर्फ पिंक बसों में ही यह सुविधा उपलब्ध है।

बज उठता है लाल रंग का हूटर
आपातकालीन परिस्थितियों में पैसेंजर्स को पुलिस की सहायता मात्र पांच मिनट में मिल जाएगी। बस में लड़ाई झगड़ा, आग लगने और किसी अन्य तरह की समस्या होने पर पैसेंजर बस के अंदर लगे जैसे ही पैनिक बटन को दबाएंगे इसकी सूचना डायल 100 को पहुंच जाएगी। वहीं जीपीएस सिस्टम से पुलिस को बस की लोकेशन पता चल जाएगी। इसके बाद निकटतम पुलिस स्टेशन से सुरक्षा अधिकारियों को सहायता के लिए भेजा जाएगा। अब तक पैनिक बटन दबाने पर इसकी जानकारी सिर्फ बस के अंदर बैठे चालक को मिलती है, साथ ही इसमें लगा लाल रंग का हूटर बज उठता है।

महिला यात्रियों को मिलेगा फायदा
इलेक्ट्रिक बसों में लगे पैनिक बटन को दबाते ही बस की दो मिनट की फुटेज डायल 100 के पास पहुंच जाएगी और इसे सेव कर लिया जाएगा। पैनिक बटन दबाने से पहले की यह फुटेज होगी। इसका सबसे बड़ा फायदा महिला यात्रियों को मिलेगा। इन बसों में महिला यात्रियों के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ होने पर आनन-फानन में पुलिस मौके पर पहुंच जाएगी।

कोट
सभी सिटी बसों के पैनिक बटन को डायल 100 से जोड़े जाने की तैयारी चल रही है। साथ ही इन बसों में लगे सीसीटीवी को लालबाग में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत तैयार किए जा रहे इंटीग्रेटेट कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से लिंक किया जाएगा। इसके माध्यम से चलती बस के अंदर के दृश्य को यहां से देखा जा सकेगा।
- आरिफ सकलेन, एमडी सिटी बस प्रबंधन

राजधानी समेत अन्य शहर में लागू होगी व्यवस्था
राजधानी में ही नहीं इलेक्ट्रिक बसों को डायल 100 से लिंक किया जाएगा, बल्कि जिन-जिन शहरों में इनका संचालन किया जा रहा है, उन सभी बसों को इससे लिंक किया जाएगा। सात शहरों में 630 इलेक्ट्रिक बसों का संचालन किया जाना है। इनमें राजधानी में 40 बसों का संचालन किया जाएगा। अन्य शहरों में संचालित की जाने वाली ई बसों में लगे सीसीटीवी को भी उन शहरों में बनने वाले इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर से लिंक किया जाएगा।

- 40 बसों का शहर में होगा संचालन

- डायल 100 से लिंक होंगे पैनिक बटन

- 2 मिनट की फुटेज पहुंच जाएगी कंट्रोल रूम