patna@inext.co.in

PATNA : सड़क परियोजनाओं के लिए 90 फीसद जमीन उपलब्धता की अनिवार्यता हटते ही पटना जिले के मोकामा में गंगा नदी पर राजेंद्र सेतु के समानांतर सिक्स लेन पुल के निर्माण की बाधाएं दूर हो गई हैं. यह पुल अगले तीन वर्षो में बनकर तैयार हो जाएगा. इसका शिलान्यास पिछले साल अक्टूबर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था.

कभी भी शुरू हो सकता है काम

पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने बताया कि 1161 करोड़ की लागत से बनने वाले इस पुल का निर्माण कार्य कभी भी शुरू हो सकता है. इस पुल के बन जाने के बाद उत्तर एवं दक्षिण बिहार को एक सूत्र में जोड़ने में सहूलियत होगी. औंटा घाट से सिमरिया के बीच वर्तमान राजेंद्र सेतु से 480 मीटर पूर्व की ओर पुल का निर्माण होना है. इसमें 8.15 किमी का पहुंच पथ भी शामिल है. इस पुल के बन जाने से पटना से पूर्णिया के बीच आने-जाने में लगने वाले समय में काफी कमी आ जाएगी. पुल निर्माण की जिम्मेदारी वेल स्पन नामक एजेंसी को दी गई है. एनएच-31 और 80 के जंक्शन से शुरू होकर यह पुल सिमरिया घाट के पास पार करेगा और सिमरिया- खगडि़या चार लेन पथ में बरौनी थर्मल पावर प्लांट के पहले मिल जाएगा. एनएच निर्माण के लिए पर्याप्त जमीन का अधिग्रहण नहीं होने के कारण इस पुल का काम शुरू नहीं हो पा रहा था.