-फातिहा दुआ के बाद असजद मियां ने परचम सौंपकर जुलूस को किया रवाना

क्चन्क्त्रश्वढ्ढरुरुङ्घ :

ताजुश्शरिया मुफ्ती अख्तर रजा खां अजहरी मियां का दो रोजा उर्स ए चेहल्लुम का आगाज वेडनसडे को परचम कुशाई की रस्म के साथ हुआ. परचमी जुलुस असर की नमाज के बाद कोहाड़ापीर स्थित सय्यद कैफी अली के निवास से शहजादा-ए-ताजुश्शरिया मुफ्ती असजद रजा खां कादरी की कयादत में निकला निकला. इससे पहले महफिल सजी, सय्यद कैफी ने नात ओ मनकबत का नजराना पेश किया. फातिहा दुआ के बाद असजद मियां ने परचम सौंपकर जुलूस को रवाना किया.

देश विदेश से आए जायरीन

जुलूस कोहाड़ापीर से कुतुबखाना, बिहारीपुर ढाल के रास्ते दरगाह पहुंचा. दरगाहर पर मुफ्ती असजद मियां ने परचम कुशाई की रस्म अदा की. वहीं चादरों का जुलूस ठिरिया निजावत खां से मुफ्ती असजद रजा खान ने रवाना किया. इशा की नमाज के बाद शहजादा-ए-ताजुश्शरिया मुफ्ती असजद मियां की सदारत व जमात रजा ए मुस्तफा के नायब सदर सलमान हसन कादरी की देखरेख में तिलावत-ए-कुरान कारी शरफुद्दीन ने की. खिराज-ए-अकीदत पेश करने के बाद नातिया व मनकबती महफिल का आगाज हुआ. देश-विदेश से आए शायर मौलाना सादिक रजवी, फिरोज राहत, मौलाना रफीक कादरी, सय्यद अब्दुल वसी ने कलाम पेश किए.

30 अगस्त को कुरान ख्वानी

कार्यक्रम देर रात तक जारी था. देर रात सुन्नी दुनिया का स्पेशल 1176 पेज का रिसाला इजरा नुकूश ए ताजुश्शरिया का विमोचन मुफ्ती असजद रजा कादरी ने किया. निजामत मौलाना हसन रजा और नाजिम रजा ने किया. इस मौके पर जमात के नायब सदर सलमान हसन कादरी, दामाद ए ताजुश्शरिया हाजी मंसूब रजा, मु़फ्ती सलमान रजा खान, हाजी बुरहान अली, फरहान रजा कादरी, नदीम सुब्हानी, खलील कादरी, सय्यद अजीमउद्दीन अजहरी, मोइन खान, नावेद अजहरी, अब्दुल्ला, डॉक्टर मेहंदी हसन, शाहिद खान नूरी, हाजी अब्बास नूरी, आमिल हुसैन, नासिर कुरैशी मौजूद रहे. 30 अगस्त बाद नमाज-ए-फजर कुरान ख्वानी, दोपहर बाद 4 बजे इस्लामिया मैदान में तकरीर उलेमा ए इकराम. बाद नमाज-ए-असर कुल शरीफ व खुसूसी दुआ होगी. बाद नमाज-ए-इशा इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस होगी जो रात भर चलेगी. यह जानकारी सलमान हसन कादरी नायब सदर ने दी.