-माधोपुर वार्ड नंबर 32 की घटना

-नाराज सफाईकर्मियों ने सड़क पर फेंका कूड़ा

-मेयर और नगर आयुक्त के हस्तक्षेप के मामला सुलझा

GORAKHPUR: वार्ड नंबर 32 माधोपुर में पार्षद ने शुक्रवार को एक सफाई कर्मी को पीट दिया. इससे नाराज सफाई कर्मी सड़क पर कूड़ा डालकर वापस चले गए. बाद में मेयर और नगर आयुक्त के हस्तक्षेप के बाद मामला सुलझा लिया गया. विवाद के कारण वार्ड में सफाई कार्य प्रभावित रहा.

माधोपुर वार्ड शहर का सबसे ज्यादा और घनी आबादी वाला वार्ड है. लगभग 85 हजार आबादी वाले वार्ड में सफाई के लिए आउटसोर्सिग पर 24 कर्मी तैनात हैं. इनमें 25 फीसदी हमेशा गैरहाजिर रहते हैं. सुबह आठ बजे तक वार्ड में सफाई कार्य शुरू नहीं हुआ तो पार्षद अभिषेक कुमार निषाद ने सफाई कर्मियों और ठेकेदार के सुपरवाइजर से इसकी वजह पूछी. आरोप है कि पार्षद ने रहमान नाम के एक सफाई कर्मी को पीट दिया. इससे विवाद बढ़ गया. नाराज कर्मी माधोपुर मुख्य मार्ग पर कूड़ा डालकर वापस चले गए. इसके बाद पूरे वार्ड में सफाई कार्य रूक गया. पार्षद का कहना है कि 24 में से चार से दस कर्मी प्रतिदिन अनुपस्थित रहते हैं. सुबह छह बजे से सफाई शुरू होनी चाहिए. लेकिन कर्मचारी आठ बजे के पहले नहीं आते और तीन घंटे काम करने के बाद लौट जाते हैं. सफाई को लेकर वार्ड की जनता रोज शिकायत करती है. वहीं, ठेकेदार रंजन कुमार ने पार्षद पर सफाई कर्मियों को परेशान करने का आरोप लगाया है. उनका कहना है कि उनका काम लेकर सप्लाई करना है. उनसे कार्य लेने की जिम्मेदारी सुपरवाइजर और निगम प्रशासन की है. पार्षद को सफाई कर्मचारी से मारपीट नहीं करना चाहिए. इसके कारण कर्मचारियों में नाराजगी थी. दोपहर बाद पार्षद व ठेकेदार मेयर एवं नगर आयुक्त से मिलने पहुंचे थे.