- रेल टिकटों की दलाली पर अंकुश लगाने के लिए आईआरसीटीसी ने ऑनलाइन टिकट बुकिंग के नियमों में किया बदलाव

-पैसेंजर को एक माह में ऑनलाइन छह से अधिक रिजर्वेशन टिकट बुक कराने पर आधार का डिटेल देना जरूरी, तभी मिलेगी टिकट

kanpur। समर वैकेशन शुरू होते ही ट्रेनों में बर्थ के लिए मारामारी शुरू हो गई है। पैसेंजर्स लोड बढ़ने के साथ टिकट दलाल भी सक्रिय हो गए हैं। उन्होंने बिजी रूट की ट्रेनों में एडवांस में टिकट रिजर्व कराकर रख लिए हैं जिन्हें पैसेंजर्स को मुंहमांगे दामों पर बेचा जा रहा है। दलालों के इस खेल पर नकेल लगाने के लिए आईआरसीटीसी ने ऑनलाइन रिजर्वेशन सिस्टम में नए नियम लागू किए हैं। रेलवे ने आधार कार्ड को आईआरसीटीसी से टिकट कराने के लिए कंपलसरी कर दिया है। रूल्स के अकॉर्डिग, अगर पैसेंजर एक महीने में छह ऑनलाइन रिजर्व टिकट ले सकता है। छह बार के बाद रिजर्व टिकट लेने के लिए पैसेंजर को अपना आधार लिंक करना होगा। जिसके बाद ही ऑनलाइन टिकट जारी हो सकेगी।

आधार कार्ड का होगा वैरीफिकेशन

आईआरसीटीसी अधिकारियों के मुताबिक, हर साल समर वैकेशंस में रिजर्वेशन टिकटों की डिमांड बढ़ जाती है। जिसके चलते टिकट दलाल भी सक्रिय हो जाते है। जोकि दर्जनों की संख्या में पहले से ही रिजर्वेशन टिकटों को डंप कर लेते है। टिकटों के मारामारी के माहौल में पैसेंजर्स की मजबूरी का फायदा उठाकर टिकटों को मनचाहे पैसों में बेचते हैं। इसलिए एक महीने में छह से अधिक टिकट बुक कराने वाले पैसेंजर का आधार वैरीफिकेशन किया जाएगा।

दलालों के कब्जे में सुविधाएं

आईआरसीटीसी पीआरओ सिद्धार्थ सिंह ने बताया कि रेल पैसेंजर्स की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए ही रेलवे ने एक महीने में रिजर्व टिकट बुक करने की संख्या छह से बढ़ा कर 12 कर दी है। जिसका नाजायज फायदा दलाल उठाने लगे थे। उन्होंने बताया कि टिकट दलाल फर्जी आईडी बना कर त्योहारों व वैकेशन के पहले दर्जनों की संख्या में टिकट रिजर्व करा डंप कर लेते हैं।

कानपुर टिकट दलालों का बड़ा गढ़

दिल्ली-हावड़ा रूट व एनसीआर जोन का मुख्य स्टेशन कानपुर सेंट्रल स्टेशन है। जहां प्रतिदिन तीन लाख से अधिक पैसेंजर्स का आवागमन है। साथ ही 300 से अधिक विभिन्न रूटों पर आवागमन हैं। पैसेंजर्स व ट्रेनों की संख्या को देखते हुए कानपुर टिकट दलालों का गढ़ बन चुका है। बीते दिनों कानपुर सेंट्रल स्टेशन आरपीएफ की सीआईबी टीम ने बादशाहीनाका से व जूही आरपीएफ ने गोविंद नगर से टिकट दलालों की दुकानों में रेड मार कर लाखों रुपए की रेल टिकट पकड़ी थी।

आंकड़े

12 रिजर्व टिकट ऑनलाइन बुक कर सकता है एक महीने में पैसेंजर

6 टिकट लेने के बाद बुकिंग के लिए आधार लिंक करना कंपलसरी

3 लाख से अधिक पैसेंजर्स का फुट फाल है कानपुर सेंट्रल पर डेली

378 ट्रेनों का प्रतिदिन कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर होता है आवागमन

कोट

समर वैकेशन में रिजर्व टिकटों की डिमांड कई गुना बढ़ जाती है। जिसका फायदा दलाल उठाते हैं। वो पहले ही अलगर-अलग नाम से टिकटें बुक कराकर डंप कर लेते हैं। दलालों पर अंकुश लगाने के लिए एक महीने में छह टिकट ऑनलाइन बुक करने के बाद आधार नंबर कंपलसरी कर दिया गया है।

सिद्धार्थ सिंह, पीआरओ, आईआरसीटीसी