- 400 पव्वे अवैध शराब के साथ 8 महिलाएं गिरफ्तार

- ऋषिकेश पुलिस ने चेकिंग के दौरान पकड़ी गैंग

- लगातार तीन माह से धरी जा रही गैंग, कई महिलाएं तीसरी बार गिरफ्तार

देहरादून, ऋषिकेश मायाकुंड की बंगाली बस्ती शराब तस्करी का ठिकाना बन गया है. चौंकाने वाली बात तो यह है कि शराब तस्करी को महिलाओं की गैंग अंजाम दे रही है. ऋषिकेश पुलिस ने महिलाओं की इस गैंग को शुक्रवार को तीसरी बार गिरफ्तार कर जेल भेजा है. शराब तस्करी के मामले में लगातार जेल जाने के बावजूद महिलाओं की यह गैंग तस्करी का धंधा छोड़ने को तैयार नहीं.

कट्टों में भरे थे 400 पव्वे शराब

शुक्रवार को ऋषिकेश थाना इलाके के श्यामपुर में पुलिस ने चेकिंग के दौरान कट्टे लेकर जा रही 8 महिलाओं को रोका तो उनके कब्जे से शराब के 400 पव्वे बरामद हुए. एसएसआई मनोज नैनवाल ने बताया कि गिरफ्तार की गई महिलाएं पहले भी शराब तस्करी में जेल जा चुकी हैं. पुलिस ने अवैध शराब जब्त कर ली और महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया.

ये किए गिरफ्तार

ममता पत्नी स्व. संजय साहनी

शारदा देवी पत्नी नंदकिशोर साहनी

गुजरी देवी पत्नी पाती लाल

इंदू पत्नी राम

सुनैना पत्नी स्व दसाई राम

जानकी पत्नी गणेश साहनी

चांदमति पत्नी रामसिंह

पूनम पत्नी राज किशोर

4 महिलाएं तीसरी बार पकड़ीं

शुक्रवार को शराब के जखीरे के साथ गिरफ्तार की गई 8 महिलाओं में से 4 महिलाएं तीसरी बार जेल भेजी गयी हैं. इनमें शारदा, गुजरी, ममता और सुनैना शामिल हैं. एक महिला चानू दूसरी बार शराब तस्करी के मामले में पकड़ी गई है. जाहिर है ये महिलाएं लगातार शराब तस्करी में लिप्त हैं.

मायाकुंड की महिला गैंग

ऋषिकेश पुलिस द्वारा शराब तस्करी के तीन मामलों में अब तक पकड़ी गईं सभी आरोपी महिलाएं मायाकुंड की बंगाली बस्ती निवासी हैं. आशंका है कि इलाके में शराब तस्करी का खेल बड़े पैमाने पर चल रहा है.

ड्राई एरिया है ऋषिकेश

शराब तस्करी के ज्यादा मामले आने की एक वजह यह भी बताई जाती है कि ऋषिकेश में शराब की बिक्री पूरी तरह से बैन है. तीर्थ नगरी ऋषिकेश को ड्राई एरिया घोषित किया गया है. ऐसे में इलाके में शराब की डिमांड भी ज्यादा है, जिसका लाभ महिलाओं की यह गैंग बखूबी उठा रही है.

हर माह सामने आये मामले

दिनांक गिरफ्तार शराब बरामद

11 जनवरी 2018 8 400 पव्वे

13 दिसंबर 2017 8 320 पव्वे

5 नवंबर 2017 6 288 पव्वे

शराब का ठिकाना कहां

ऋषिकेश थाना प्रभारी रितेश साह ने बताया कि शराब तस्करी में पकड़ी गईं सभी महिलाएं मायाकुंड, बंगाली बस्ती की रहने वाली हैं. लगातार इन महिलाओं की शराब तस्करी में संलिप्तता के चलते कई बार इलाके में रेड की गई लेकिन शराब बरामद नहीं हुई. महिलाएं शराब का ठिकाना अपने घरों में नहीं बनाती, इसलिए रेड में कुछ नहीं मिलता. शराब की सप्लाई बाहर से उन्हें पहुंचाई जाती है.

-----------

शराब तस्करी में पकड़ी गईं महिलाओं में से कुछ महिलाएं पहले भी इसी आरोप में जेल भेजी गई हैं. पुलिस द्वारा तस्करों की महिला गैंग की लगातार निगरानी की जाती है और अक्सर शराब के जखीरे के साथ चेकिंग के दौरान उन्हें गिरफ्तार किया जाता है.

- रितेश साह, थाना प्रभारी, ऋषिकेश